Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2020

Neem Karoli Baba Ki Roti | नीम करोली बाबा की रोटी

Neem Karoli Baba Ki Roti | नीम करोली बाबा की रोटी एक बार श्री नीम करोली बाबा  जी हनुमानगढ़ में थे , महाराजजी के कुछ भक्त उच्च जाति के थे जो निम्न जाति के भक्तों से हीनता रखते थे। यह समझते हुए महाराजजी सभी भक्तों के साथ नैनीताल गए । नैनीताल में सबसे गंदी बस्ती जो सफाई कर्मियों की भी थी , बाबा वहां घुस गए। महाराजजी के साथ कोई नही गया । जब महाराजजी बापस आये तो उनके हाँथ में 2 रोटी थी। उन्होंने ने सभी भक्तों को देते हुए कहा , लो खाओ यह प्रसाद है और सभी को उसे खाना पड़ा। जिन सज्जन को निम्न जाति से हीनता थी उन्हें विशेष रूप से खिलाया गया ।
वे मना नहीं कर सके किन्तु उस रोटी को खाने में जो अरुचि थी वह उनके चेहरे पर दिख रही थी। सभी भक्त समझ गए कि बाबा जी की भक्ति बिना भेद भाव के ही होनी चाहिए।
बाबा नीम करोली ने अपने सभी भक्तो को ये मूक उपदेश दिया की अति -धर्म का भेद भाव उनकी भक्ति में कोई स्थान नहीं रखता है। neem karoli baba अपने हर भक्त को सामान दृष्टि से देखते थे। उनकी कृपा का प्रसाद उनके हर भक्त को समान रूप से प्राप्त होता था। महाराज जी सदैव  बोलते थे की केवल ईश्वर का प्रेम ही सत्य है ,बाकी सब …