Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2023

Most Popular Post

मंगलवार का देवता कौन है? | मंगलवार को कौन सा मंत्र पढ़ना चाहिए?

शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार का दिन भगवान गणेश, भगवान हनुमान, और देवी दुर्गा और काली को समर्पित है। मंगलवार को बजरंगबली का दिन माना जाता है। इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। मंगलवार की पूजा मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। हनुमान जी को शक्ति, बल, साहस और संकट मोचन का देवता माना जाता है। माना जाता है कि मंगलवार के दिन अगर सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ हनुमान जी की पूजा की जाए तो व्यक्ति को हर संकट से मुक्ति मिल जाती है। शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार के दिन देवी पूजा के लिए पंचमेवा, मिष्ठान, फल, लाल रंग के पुष्प और माला, कलावा, दिया, बाती, रोली, सिंदूर, पानी वाला नारियल, अक्षत, लाल कपड़ा, पूजा वाली सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, गाय का घी, कलश, आम का पत्ता, कमल गट्टा, समिधा, लाल चंदन, जौ, तिल, सोलह श्रृंगार का सामान आदि रखना चाहिए।  मंगलवार को व्रत रखने से कुंडली में मंगल दोष से मुक्ति भी मिल सकती है। मंगलवार के दिन में क्या खास है? मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, मंगलवार के दिन ही बजरं

हनुमान जी की कथा: भगवान हनुमान के प्रति एक भक्ति

हनुमान जी , जिन्हें भगवान हनुमान के नाम से भी जाना जाता है, हिंदू पौराणिक कथाओं में एक पूजनीय देव हैं। वह अपनी अपार शक्ति, बुद्धि और भगवान राम के प्रति अटूट भक्ति के लिए जाने जाते हैं। इस लेख में, हम हनुमान जी की किंवदंती और उनके वीरतापूर्ण कार्यों के बारे में जानेंगे जिन्होंने उन्हें दुनिया भर के हिंदुओं के बीच एक प्रिय देवता बना दिया है। हनुमान जी का परिचय और हिंदू पौराणिक कथाओं में उनका महत्व हनुमान जी हिंदू पौराणिक कथाओं में एक प्रमुख व्यक्ति हैं और भगवान राम के प्रति उनकी भक्ति के लिए पूजनीय हैं। उन्हें भगवान शिव का अवतार माना जाता है और वे अपनी अपार शक्ति, बुद्धि और साहस के लिए जाने जाते हैं। हनुमान जी को वानर देवता के रूप में भी जाना जाता है और उन्हें अक्सर वानर के चेहरे और पूंछ के साथ चित्रित किया जाता है। वह भक्ति, शक्ति और वफादारी का प्रतीक हैं, और उनकी किंवदंती ने दुनिया भर में कई भक्तों को प्रेरित किया है। हनुमान जी के जन्म और बचपन की कहानी हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, हनुमान जी का जन्म एक अप्सरा अंजना से हुआ था, जिसे बंदर के रूप में रहने का श्राप

शिव विष्णु लिवरमोर मंदिर की सुंदरता और आध्यात्मिकता की खोज

शिव विष्णु लिवरमोर मंदिर कैलिफोर्निया के लिवरमोर में स्थित एक सुंदर और शांत पूजा स्थल है। अपनी आश्चर्यजनक वास्तुकला और शांतिपूर्ण वातावरण के साथ, यह आगंतुकों को हिंदू संस्कृति की सुंदरता और आध्यात्मिकता में डूबने का मौका प्रदान करता है। चाहे आप मंदिर के जटिल डिजाइन का पता लगाना चाहते हों या बस एक शांत प्रतिबिंब के क्षण की तलाश कर रहे हों, शिव विष्णु लिवरमोर मंदिर एक अवश्य यात्रा करने योग्य स्थान है। शिव विष्णु लिवरमोर मंदिर के इतिहास और महत्व के बारे में जानें शिव विष्णु लिवरमोर मंदिर का हिंदू संस्कृति में एक समृद्ध इतिहास और गहरा महत्व है। इसकी स्थापना 1985 में समर्पित स्वयंसेवकों के एक समूह द्वारा की गई थी जो पूजा और समुदाय के लिए जगह बनाना चाहते थे। यह मंदिर भगवान शिव और भगवान विष्णु को समर्पित है, जो हिंदू धर्म के दो सबसे महत्वपूर्ण देवता हैं। मंदिर की आश्चर्यजनक वास्तुकला पारंपरिक दक्षिण भारतीय मंदिर डिजाइन से प्रेरित है, जिसमें दीवारों पर जटिल नक्काशी और रंगीन भित्ति चित्र हैं। पर्यटक मंदिर द्वारा प्रस्तावित निर्देशित पर्यटन और शैक्षिक कार्यक्रमों के माध्यम से मंदिर

भगवान विष्णु की पौराणिक कथा और प्रतीकवाद

भगवान विष्णु हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक हैं, जिन्हें ब्रह्मांड के संरक्षक के रूप में जाना जाता है। उन्हें अक्सर चार भुजाओं के साथ चित्रित किया जाता है, जिसमें शंख, चक्र, गदा और कमल का फूल होता है। हिंदू पौराणिक कथाओं में, भगवान विष्णु कई कहानियों और प्रतीकों से जुड़े हैं जिनका गहरा आध्यात्मिक महत्व है। आइए मिलकर भगवान विष्णु की आकर्षक दुनिया का अन्वेषण करें। मत्स्य अवतार - मछली अवतार मत्स्य अवतार भगवान विष्णु का पहला अवतार है, और उन्हें मछली के रूप में दर्शाया गया है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, दुनिया को भीषण बाढ़ से बचाने के लिए भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। कहानी यह है कि हयग्रीव नाम के एक राक्षस ने वेदों (पवित्र हिंदू ग्रंथों) को चुरा लिया और उन्हें समुद्र की गहराई में छिपा दिया। भगवान विष्णु ने मछली का रूप धारण किया और वेदों को पुनः प्राप्त किया, इस प्रकार दुनिया को अज्ञानता से बचाया। मत्स्य अवतार को अक्सर एक मानव धड़ और एक मछली की पूंछ, एक शंख और एक चक्र पकड़े हुए चित्रित किया गया है। भगवान विष्णु का यह अवतार ज्ञान के महत्व और बुद्धि

हनुमान चालीसा की शक्ति: एक संपूर्ण मार्गदर्शिका

इस संपूर्ण गाइड के साथ हनुमान चालीसा की शक्ति को जानें। इस शक्तिशाली हनुमान स्तुति के इतिहास, महत्व और लाभों के बारे में जानें। माना जाता है कि हनुमान चालीसा भगवान हनुमान का एक भक्ति गीत है जो उनकी कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने में मदद करता है। हनुमान चालीसा का परिचय हनुमान चालीसा एक भक्ति  स्तुति  है जो हिंदू धर्म में सबसे प्रतिष्ठित देवताओं में से एक, भगवान हनुमान को समर्पित है। हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने से हनुमानजी की कृपा बनी रहती है और मंगल दोष का प्रभाव भी दूर होता है। माना जाता है कि हनुमान चालीसा का पाठ करने से भगवान हनुमान का आशीर्वाद और सुरक्षा मिलती है। इस भजन में 40 छंद हैं, जिनमें से प्रत्येक में भगवान हनुमान के गुणों और शक्तियों का वर्णन है। ऐसा कहा जाता है कि नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करने से बाधाओं को दूर करने, मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करने और किसी के जीवन में शांति और समृद्धि लाने में मदद मिल सकती है। इस गाइड में, हम हनुमान चालीसा के इतिहास, महत्व और लाभों के बारे में विस्तार से जानेंगे। हनुमान चालीसा का इतिहास और महत्व हनुमान

प्रसाद और भोजन के फर्क पर नीम करोली बाबा के विचार

यदि आप नीम करोली बाबा के उपदेशों के बारे में जानना चाहते हैं, तो उनके विचारों में से एक है प्रसाद और भोजन के फर्क के बारे में। इस पोस्ट में, आप उनके उपदेशों के बारे में जान सकते हैं और उनके विचारों से प्रेरणा ले सकते हैं। भोजन और प्रसाद का अंतर क्या है? नीम करोली बाबा के अनुसार, भोजन और प्रसाद दो अलग-अलग चीजें हैं। भोजन खाने के लिए होता है, जबकि प्रसाद भगवान के लिए चढ़ाया जाता है। भोजन शारीरिक ऊर्जा के लिए होता है, जबकि प्रसाद आत्मिक ऊर्जा के लिए होता है। भोजन खाने से शारीरिक तौर पर हमें फायदा होता है, जबकि प्रसाद खाने से हमारी आत्मा को शांति मिलती है। प्रसाद के लाभ क्या हैं? प्रसाद खाने से हमारी आत्मा को शांति मिलती है और हमारे मन में शुद्धता आती है। इसके अलावा, प्रसाद खाने से हमारी आत्मिक ऊर्जा बढ़ती है और हमारी मनोदशा भी बेहतर होती है। यह हमारे शरीर को भी फायदा पहुंचाता है क्योंकि इसमें शुद्ध और सात्विक आहार होता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छा होता है। भोजन के नियम क्या हैं? नीम करोली बाबा के अनुसार, भोजन के नियम बहुत महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने सिखाया कि हमें

श्री नीम करोली बाबा के वचन | Neem Karoli Baba Quotes Studio

प्रिय भक्तों आप सभी पर परम पूज्य श्री नीम करोली बाबा की कृपा निरंतर यूं ही बरसती रहे। आज के इस लेख में हम आपको महाराज जी के द्वारा बताए गए उन वचनो को आपके सामने प्रदर्शित करेंगे जिनको सुनकर, समझ कर और जिनको अपने जीवन में उतारकर हम सब प्रगति के पथ पर अग्रसर हो सकते हैं। आप सभी से मेरा आग्रह है कि बाबा जी को अपने हृदय में धारण करके उनके द्वारा कहे गए इन वचनो का पालन करते हुए अपने जीवन का निर्वाह करें।