Posts

Most Popular Post

स्टीव जॉब्स नीम करोली बाबा के पास क्यों गए?

प्रिय भक्तो आज की कहानी से आप जानेंगे की किस तरह  स्टीव जॉब्स का भारत आगमन हुवा और उनको किस प्रकार नीम करोली बाबा की कृपा प्राप्त हुवी।  स्टीव जॉब्स और नीम करोली बाबा  1974 में, स्टीव जॉब्स और उनके मित्र डैनियल कोट्टके ने हिंदू धर्म और भारतीय आध्यात्मिकता का अध्ययन करने के लिए भारत की यात्रा की। उन्होंने नीम करोली बाबा से मिलने की योजना बनाई, लेकिन पिछले सितंबर में बाबा समाधी ले चुके थे। जॉब्स भारत में अपने अनुभवों से, विशेषकर नीम करोली बाबा के आश्रम में अपने निवास से वे बहुत प्रभावित थे। श्री कैंची धाम आश्रम में अपने निवास के दौरान उनको बाबा की दिव्या शक्तियों से आध्यात्मिक प्रेरणा मिली जिसके पश्चात ही उनके मन में एप्पल को शुरू करने का विचार आया।  जॉब्स ने प्रसिद्ध अमेरिकी मनोवैज्ञानिक राम दास की पुस्तक बी हियर नाउ पढ़ी, जो बाद में नीम करोली बाबा के शिष्य बन गए। पुस्तक में, राम दास ने बताया कि कैसे नीम करोली बाबा से उनकी मुलाकात ने उनके जीवन को बदल दिया। जॉब्स ने उत्तराखंड राज्य के नैनीताल में कैंची आश्रम का दौरा किया। यह बाबा नीम करोली का आश्रम है, जिन्हें भगवान हनुमान

GRAHAN: सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण क्यों लगता है? | ग्रहण की पौराणिक कथा

तुलसी कौन थी? | तुलसी विवाव की पौराणिक कथा