Skip to main content

Most Popular Post

Vishnu Sahasranamam Stotram With Hindi Lyrics

Vishnu Sahasranamam Stotram Mahima ॐ  नमो भगवते वासुदेवाय नमः  प्रिय भक्तों विष्णु सहस्त्रनाम भगवान श्री हरि विष्णु अर्थात भगवान नारायण के 1000 नामों की वह श्रृंखला है जिसे जपने मात्र से मानव के समस्त दुख और कष्ट दूर हो जाते हैं और भगवान विष्णु की अगाध कृपा प्राप्त होती है।  विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करने में कोई ज्यादा नियम विधि नहीं है परंतु मन में श्रद्धा और विश्वास अटूट होना चाहिए। भगवान की पूजा करने का एक विधान है कि आपके पास पूजन की सामग्री हो या ना हो पर मन में अपने इष्ट के प्रति अगाध विश्वास और श्रद्धा अवश्य होनी चाहिए।  ठीक उसी प्रकार विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते समय आपके हृदय में भगवान श्री विष्णु अर्थात नारायण के प्रति पूर्ण प्रेम श्रद्धा विश्वास और समर्पण भाव का होना अति आवश्यक है। जिस प्रकार की मनो स्थिति में होकर आप विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करेंगे उसी मनो स्तिथि में भगवान विष्णु आपकी पूजा को स्वीकार करके आपके ऊपर अपनी कृपा प्रदान करेंगे।    भगवान विष्णु के सहस्त्र नामों का पाठ करने की महिमा अगाध है। श्रीहरि भगवान विष्णु के 1000 नामों (Vishnu 1000 Names)के स्मरण मात्र से मनु

Mandir Mein Thodi Der Baithana Chahiye

क्यों हमें मंदिर में दर्शन के बाद थोड़ी देर के लिए वहां बैठना चाहिए? 

बहुत सारे लोगों के मन में यह प्रश्न उठता है कि जब कभी भी हम सब मंदिर जाते हैं तो मंदिर में भगवान के दर्शन करने के उपरांत क्या कुछ समय के लिए मंदिर की भूमि पर विश्राम करना चाहिए अर्थात क्या कुछ समय के लिए हमें मंदिर में बैठना चाहिए ?

इस प्रश्न का उत्तर पाने के लिए अनेक लोगों ने प्रश्न किया पर कोई सही उत्तर न पा सका। आज हम पूर्ण तर्क विधि से आपको सही उत्तर देने का प्रयास करेंगे। 

सर्वप्रथम हमको यह जानना है कि मंदिर कौन सी जगह होती है ? मंदिर क्या है ? 

मंदिर वह स्थान है जहां ईश्वरी शक्ति का निवास होता है। यूं तो ईश्वरीय शक्ति संसार के हर कण में निवास करती है परंतु जिस प्रकार हवा होते हुए भी बिना पंखा चलाएं हमें हवा महसूस नहीं होती, ठीक उसी प्रकार भगवान तो सर्वत्र व्याप्त है पर उसे महसूस करने के लिए हमें भगवान के मंदिर में आश्रय लेना पड़ता है। 

भगवान का मंदिर वह स्थान है जहां पर प्रतिदिन लाखों-करोड़ों भक्त आते हैं, भगवान की पूजा अर्चना करते हैं और उनकी पूजा-अर्चना से उत्पन्न होने वाली सकारात्मक उर्जा उस मंदिर के पवित्र वातावरण में घूमती रहती है जो उस मंदिर में दर्शन करने वाले प्रत्येक भक्त, प्रत्येक साधक को बहुत उपयोगी सिद्ध होती है। 

मंदिर के प्रांगण की भूमि का अपना एक अलग महत्व होता है। जब कभी भी हम मन से व्यथित हो, चिंतित हो, तो उस वक्त हम अगर किसी भी मंदिर की ओर प्रस्थान करते हैं और मंदिर के अंदर प्रवेश करते हैं तो हमें एक सुगंध का अनुभव महसूस होता है।  मंदिर की पवित्र भूमि पर अपने कदमों को रखते ही हमारे मन के सब विकार शांत होने लगते है। हमारे मन मस्तिष्क को शांति मिलने लगती है। इसका कारण यह होता है कि उस मंदिर की सकारात्मक ऊर्जा सदैव उस मंदिर के पवित्र वातावरण और वहा की भूमि में विद्यमान रहती है।   

Mandir Mein Thodi Der Baithana Chahiye - Shri Kainchi Dham

जब भी हम अपने पवित्र मन से किसी भी धार्मिक स्थल में प्रवेश करते हैं तो उस मंदिर की सकारात्मक ऊर्जा जो उस मंदिर की  भूमि में विद्यमान रहती है, हमारे शरीर के संपर्क में आने से हमारे शरीर में व्याप्त होने लगती है और हमें आत्मिक और धार्मिक बल प्रदान करती है और हमारे लिए आध्यात्मिक मार्ग प्रशस्त करती है। 

ईश्वर के मंदिर की हर वस्तु बहुत ही पवित्र होती है। मंदिर में दर्शन करने के यु तो  कोई खास नियम नहीं होती क्योंकि भगवान तो सिर्फ और सिर्फ भाव के भूखे होते हैं लेकिन हमें अपने आध्यात्मिक उत्थान के लिए और मंदिर में भगवान के दर्शनों का अधिक से अधिक लाभ पाने के लिए कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना चाहिए:- 

(१) जब कभी भी हम मंदिर में दर्शन के लिए प्रवेश करें तो मंदिर की चौखट पर अवश्य माथा टेकना चाहिए क्योंकि मंदिर की चौखट में स्वयं भगवान का निवास होता है। 

(२) जब मंदिर के प्रांगण में प्रवेश करें तो वहां की माटी को अपने माथे से अवश्य लगाना चाहिए क्योंकि संसार के प्रत्येक मंदिर में प्रतिदिन लाखों करोड़ों भक्त दर्शनों के लिए आते हैं। क्या पता कौन सा भक्त भगवान को सबसे अधिक प्रिय हो क्योंकि भगवान ने अपने से बड़ा दर्जा भक्तों को दिया है इसलिए भगवान के भक्तों की चरण धूलि को अपने माथे से लगाने से बहुत बड़े बड़े संकट टल जाते हैं कट जाते हैं। 

(३) जब हम भगवान के दर्शन करें तो भगवान के दर्शन करते समय भगवान को आंख बंद करके नहीं बल्कि आंख खोलकर जी भर के देखना चाहिए क्योंकि भगवान के सामने आते ही हम उनके सामने नतमस्तक हो जाते हैं। हम सभी को ये सत्य जान लेना चाहिए की वास्तव में इस संसार में भगवान् से सुन्दर कुछ भी नहीं है अतः मंदिर में भगवान् के दर्शन करते वक़्त भगवान् के दिव्य स्वरुप का जीभर के दर्शन कर अपनी आत्मा को तृप्त करे। 

(४) भगवान को प्रणाम करके उनके सुंदर स्वरूप के दर्शन करके भगवान के मंदिर में लगे घंटे को अवश्य बजाना चाहिए क्योंकि घंटा बजाने से भगवान के दरबार में हाजिरी लगती है। भगवान के मंदिर का घंटा बजाने का अपना ही अलग है महत्व है। मंदिर के घंटे की ध्वनि जितनी दूर तक जाती है उतनी दूर तक बहुत सी बीमारियां नष्ट हो जाती हैं, मन पवित्र हो जाता है। लोगों के मन की शंकाएं दूर होने लगती है और एक सकारात्मक वातावरण उत्पन्न होने लगता है। 

जय श्री कैंची धाम 

जय श्री नीम करोली बाबा की 

Comments