Bajrang Baan Chaupai With Hindi Lyrics

बजरंग बाण की शक्ति: इसके अर्थ और लाभ के लिए एक मार्गदर्शिका

क्या आप बजरंग बाण और उसके महत्व के बारे में जानने को उत्सुक हैं? यह व्यापक मार्गदर्शिका आपको इस शक्तिशाली प्रार्थना के पीछे के गहन अर्थ की गहरी समझ प्रदान करेगी। बजरंग बाण का पाठ करने के अविश्वसनीय लाभों की खोज करें और अपने भीतर छिपी शक्ति को उजागर करें।

बजरंग बाण को समझना: भगवान हनुमान को समर्पित एक शक्तिशाली हिंदू प्रार्थना, बजरंग बाण की उत्पत्ति और महत्व के बारे में जानें।

बजरंग बाण हिंदू धर्म में पूजनीय देवता भगवान हनुमान को समर्पित एक पवित्र प्रार्थना है। यह प्रार्थना अत्यधिक महत्व रखती है और माना जाता है कि इसमें उन लोगों की रक्षा करने और आशीर्वाद देने की शक्ति है जो इसे भक्तिपूर्वक पढ़ते हैं। इस गाइड में, हम बजरंग बाण की उत्पत्ति के बारे में गहराई से जानेंगे और इसके गहरे आध्यात्मिक अर्थ का पता लगाएंगे। इस प्रार्थना के सार को समझकर, आप इसके अविश्वसनीय लाभों का लाभ उठा सकते हैं और इसमें मौजूद परिवर्तनकारी शक्ति का अनुभव कर सकते हैं।

बजरंग बाण का पाठ: अधिकतम प्रभावशीलता और आध्यात्मिक लाभ के लिए बजरंग बाण का जाप और पाठ करने का सही तरीका खोजें।

बजरंग बाण का जप और पाठ करने का सही तरीका इसकी अधिकतम प्रभावशीलता और आध्यात्मिक लाभों का उपयोग करने के लिए आवश्यक है। इस शक्तिशाली प्रार्थना को अत्यंत भक्ति और ईमानदारी से पढ़ा जाना चाहिए। एक शांत और शांत जगह खोजने की सलाह दी जाती है जहां आप प्रार्थना पर पूरा ध्यान केंद्रित कर सकें। स्नान या शॉवर के माध्यम से खुद को शुद्ध करने से शुरुआत करें और साफ और आरामदायक कपड़े पहनें। पवित्र वातावरण बनाने के लिए दीया (तेल का दीपक) या धूप जलाएं। आरामदायक स्थिति में बैठें, अधिमानतः पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके। अपने मन को शांत करने के लिए अपनी आँखें बंद करें और कुछ गहरी साँसें लें। फिर, पूरे ध्यान और भक्ति के साथ बजरंग बाण का पाठ करना शुरू करें। प्रत्येक शब्द का सही उच्चारण करना और एक स्थिर लय बनाए रखना महत्वपूर्ण है। आप अपनी व्यक्तिगत पसंद और समय की उपलब्धता के आधार पर प्रार्थना को कई बार पढ़ सकते हैं। पाठ पूरा करने के बाद, भगवान हनुमान को अपनी कृतज्ञता और प्रार्थना अर्पित करें। इन दिशानिर्देशों का पालन करके, आप पूरी तरह से बजरंग बाण का पाठ करने की साधना में डूब सकते हैं और इसके गहन लाभों का अनुभव कर सकते हैं।

अर्थ और प्रतीकवाद: बजरंग बाण के प्रत्येक श्लोक के पीछे के अर्थ और प्रतीकवाद में गहराई से उतरें, इसमें दिए गए गहन संदेशों को समझें।

बजरंग बाण एक पवित्र प्रार्थना है जो अपने छंदों में गहरा अर्थ और प्रतीकवाद समेटे हुए है। प्रत्येक श्लोक एक गहरा संदेश देता है और शक्तिशाली आध्यात्मिक शिक्षा देता है। बजरंग बाण के अर्थ और प्रतीकवाद में गहराई से उतरकर, आप इसके महत्व और इसमें निहित परिवर्तनकारी शक्ति की गहरी समझ प्राप्त कर सकते हैं। प्रत्येक शब्द और वाक्यांश के पीछे के समृद्ध प्रतीकवाद का अन्वेषण करें, और उसके भीतर छुपे संदेशों को उजागर करें। यह आपको प्रार्थना के साथ और अधिक गहराई से जुड़ने और इसके द्वारा प्रदान किए जाने वाले गहन ज्ञान को पूरी तरह से समझने की अनुमति देगा। जैसे ही आप बजरंग बाण के अर्थ और प्रतीकवाद का पता लगाते हैं, आप आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि और मार्गदर्शन की परतों को उजागर करेंगे जो आपकी आध्यात्मिक यात्रा को बढ़ा सकते हैं और आपको परमात्मा के करीब ला सकते हैं।

जप के लाभ: नियमित रूप से बजरंग बाण का पाठ करने से होने वाले कई लाभों का पता लगाएं, जिनमें आध्यात्मिक विकास, सुरक्षा और बाधाओं पर काबू पाना शामिल है।

नियमित रूप से बजरंग बाण का पाठ करने से आपके जीवन में अनेक लाभ हो सकते हैं। सबसे महत्वपूर्ण लाभों में से एक आध्यात्मिक विकास है। ऐसा माना जाता है कि प्रार्थना आपको परमात्मा से जोड़ती है और आपकी आध्यात्मिक यात्रा को गहरा करती है। यह आपको अपने आंतरिक स्व और उच्च शक्ति के साथ एक मजबूत संबंध विकसित करने में मदद कर सकता है।

बजरंग बाण का जाप करने का एक अन्य लाभ सुरक्षा भी है। प्रार्थना को नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने और पढ़ने वाले को नुकसान से बचाने की क्षमता के लिए जाना जाता है। यह आपके चारों ओर दैवीय ऊर्जा का एक कवच बनाता है, जो आपको शारीरिक और आध्यात्मिक खतरों से सुरक्षित रखता है।

इसके अतिरिक्त, बजरंग बाण बाधाओं पर काबू पाने की अपनी शक्ति के लिए प्रसिद्ध है। ऐसा माना जाता है कि यह आपके रास्ते में आने वाली किसी भी बाधा या चुनौती को दूर कर देता है। इस प्रार्थना को नियमित रूप से पढ़ने से आप अपने जीवन में किसी भी कठिनाई का सामना करने और उस पर काबू पाने की शक्ति और साहस प्राप्त कर सकते हैं।

कुल मिलाकर, नियमित रूप से बजरंग बाण का पाठ करने के लाभ बहुत अधिक हैं। यह आध्यात्मिक विकास, सुरक्षा और बाधाओं को दूर करने की क्षमता ला सकता है। इस शक्तिशाली प्रार्थना को अपने दैनिक अभ्यास में शामिल करके, आप इसकी परिवर्तनकारी शक्ति को उजागर कर सकते हैं और अपने जीवन में गहन सकारात्मक परिवर्तनों का अनुभव कर सकते हैं।

दैनिक जीवन में बजरंग बाण को शामिल करना: जानें कि बजरंग बाण को अपने दैनिक आध्यात्मिक अभ्यास में कैसे शामिल करें, इसकी शक्ति का उपयोग अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए करें।

बजरंग बाण को अपनी दैनिक साधना में शामिल करने से आपके जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है। प्रार्थना पढ़ने के लिए प्रत्येक दिन एक विशिष्ट समय निर्धारित करके शुरुआत करें। एक शांत और शांतिपूर्ण स्थान ढूंढें जहां आप ध्यान केंद्रित कर सकें और दिव्य ऊर्जा से जुड़ सकें।

इससे पहले कि आप बजरंग बाण का पाठ शुरू करें, अपने आप को केंद्रित करने और अपने दिमाग को साफ़ करने के लिए कुछ क्षण लें। गहरी साँसें लें और ध्यान भटकाने वाले या नकारात्मक विचारों को छोड़ दें। इससे आपको अपने अभ्यास के लिए एक पवित्र स्थान बनाने में मदद मिलेगी।

जैसे ही आप प्रार्थना पढ़ते हैं, शब्दों और उनके अर्थ पर ध्यान केंद्रित करें। प्रार्थना के स्पंदनों को अपने भीतर गूंजने दें, आपको सकारात्मक ऊर्जा और इरादे से भर दें। अपने चारों ओर दिव्य ऊर्जा की कल्पना करें, जो एक सुरक्षा कवच बना रही है और आपकी आध्यात्मिक यात्रा में आपका मार्गदर्शन कर रही है।

बजरंग बाण को अपने दैनिक जीवन में शामिल करना केवल पूजा पाठ तक ही सीमित नहीं है। आप इसकी शिक्षाओं और सिद्धांतों को अपने कार्यों और दूसरों के साथ बातचीत में भी शामिल कर सकते हैं। प्रार्थना में दर्शाए गए गुणों को अपनाते हुए करुणा, दया और क्षमा का अभ्यास करें।

बजरंग बाण को लगातार अपनी दैनिक साधना में शामिल करके, आप इसकी शक्ति का उपयोग अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए कर सकते हैं। आप आध्यात्मिक विकास, सुरक्षा और बाधाओं को दूर करने की क्षमता का अनुभव करेंगे। इस शक्तिशाली प्रार्थना को अपनाएं और इसे आत्म-खोज और परिवर्तन की दिशा में अपनी यात्रा में मार्गदर्शन करने की अनुमति दें।

Bajrang Baan Lyrics in Hindi With Meaning

दोहा -

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान।
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥

अर्थ -  जो भी व्यक्ति पूर्ण प्रेम विश्वास के साथ विनय पूर्वक अपनी आशा रखता है, रामभक्त हनुमान जी की कृपा से उसके सभी कार्य शुभदायक और सफल होते हैं ।।

चौपाई-

जय हनुमंत संत हितकारी। सुन लीजै प्रभु विनय हमारी॥

जन के काज बिलंब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै॥

जैसे कूदि सिंधु के पारा। सुरसा बदन पैठि बिस्तारा॥

आगे जाय लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुरलोका॥

जाय बिभीषन को सुख दीन्हा। सीता निरखि परमपद लीन्हा॥

अर्थ- 

  • हे भक्त वत्सल हनुमान जी आप संतों के हितकारी हैं, कृपा पूर्वक मेरी विनती भी सुन लीजिये। 
  • हे प्रभु पवनपुत्र आपका दास अति संकट में है,अब बिलम्ब मत कीजिये एवं पवन गति से आकर भक्त को सुखी कीजिये। 
  • जिस प्रकार से आपने खेल-खेल में समुद्र को पार कर लिया था और सुरसा जैसी प्रबल और छली के मुंह में प्रवेश करके वापस भी लौट आये। 
  • जब आप लंका पहुंचे और वहां आपको वहां की प्रहरी लंकिनी ने रोका तो आपने एक ही प्रहार में उसे देवलोक भेज दिया। 
  • राम भक्त विभीषण को जिस प्रकार अपने सुख प्रदान किया और माता सीता के कृपापात्र बनकर वह परम पद प्राप्त किया जो अत्यंत ही दुर्लभ है ।

बाग उजारि सिंधु महँ बोरा। अति आतुर जमकातर तोरा॥

अक्षय कुमार मारि संहारा। लूम लपेटि लंक को जारा॥

लाह समान लंक जरि गई। जय जय धुनि सुरपुर नभ भई॥

अब बिलंब केहि कारन स्वामी। कृपा करहु उर अंतरयामी॥

जय जय लखन प्रान के दाता। आतुर ह्वै दुख करहु निपाता॥

अर्थ- 

  • कौतुक-कौतुक में आपने सारे बाग़ को ही उखाड़कर समुद्र में डुबो दिया एवं बाग़ रक्षकों को जिसको जैसा दंड उचित था वैसा दंड दिया ।।
  • बिना किसी श्रम के क्षण मात्र में जिस प्रकार आपने दशकंधर पुत्र अक्षय कुमार का संहार कर दिया एवं अपनी पूछ से सम्पूर्ण लंका नगरी को जला डाला ।।
  • किसी घास-फूस के छप्पर की तरह सम्पूर्ण लंका नगरी जल गयी आपका ऐसा कृत्य देखकर हर जगह आपकी जय जयकार हुयी ।।
  • हे प्रभु तो फिर अब मुझ दास के कार्य में इतना बिलम्ब क्यों ? कृपा पूर्वक मेरे कष्टों का हरण करो क्योंकि आप तो सर्वज्ञ और सबके ह्रदय की बात जानते हैं।
  • हे दीनों के उद्धारक आपकी कृपा से ही लक्ष्मण जी के प्राण बचे थे , जिस प्रकार आपने उनके प्राण बचाये थे उसी प्रकार इस दीन के दुखों का निवारण भी करो।

जै हनुमान जयति बल-सागर। सुर-समूह-समरथ भट-नागर॥

ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले। बैरिहि मारु बज्र की कीले॥

ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपीसा। ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा॥

जय अंजनि कुमार बलवंता। शंकरसुवन बीर हनुमंता॥

बदन कराल काल-कुल-घालक। राम सहाय सदा प्रतिपालक॥

अर्थ-

  •  हे योद्धाओं के नायक एवं सब प्रकार से समर्थ, पर्वत को धारण करने वाले एवं सुखों के सागर मुझ पर कृपा करो ।।
  • हे हनुमंत – हे दुःख भंजन – हे हठीले हनुमंत मुझ पर कृपा करो और मेरे शत्रुओं को अपने वज्र से मारकर निस्तेज और निष्प्राण कर दो ।।
  • हे ह्रीं ह्रीं ह्रीं रूपी शक्तिशाली कपीश आप शक्ति को अत्यंत प्रिय हो और सदा उनके साथ उनकी सेवा में रहते हो , हुं हुं हुंकार रूपी प्रभु मेरे शत्रुओं के हृदय और मस्तक विदीर्ण कर दो ।।
  •  हे अंजनी पुत्र हे अतुलित बल के स्वामी , हे शिव के अंश वीरों के वीर हनुमान जी मेरी रक्षा करो ।।
  • हे प्रभु आपका शरीर अति विशाल है और आप साक्षात काल का भी नाश करने में समर्थ हैं , हे राम भक्त , राम के प्रिय आप सदा ही दीनों का पालन करने वाले हैं ।।

भूत, प्रेत, पिसाच निसाचर। अगिन बेताल काल मारी मर॥

इन्हें मारु, तोहि सपथ राम की। राखु नाथ मरजाद नाम की॥

सत्य होहु हरि सपथ पाइ कै। राम दूत धरु मारु धाइ कै॥

जय जय जय हनुमंत अगाधा। दुख पावत जन केहि अपराधा॥

पूजा जप तप नेम अचारा। नहिं जानत कछु दास तुम्हारा॥

अर्थ-

  • चाहे वह भूत हो अथवा प्रेत हो भले ही वह पिशाच या निशाचर हो या अगिया बेताल हो या फिर अन्य कोई भी हो ।।
  • हे प्रभु आपको आपके इष्ट भगवान राम की सौगंध है अविलम्ब ही इन सबका संहार कर दो और भक्त प्रतिपालक एवं राम-भक्त नाम की मर्यादा की आन रख लो ।।
  • हे दीनानाथ आपको श्री हरि की शपथ है मेरी विनती को पूर्ण करो – हे रामदूत मेरे शत्रुओं का और मेरी बाधाओं का विलय कर दो ।।
  • हे अगाध शक्तियों और कृपा के स्वामी आपकी सदा ही जय हो , आपके इस दास को किस अपराध का दंड मिल रहा है ?
  • हे कृपा निधान आपका यह दास पूजा की विधि , जप का नियम , तपस्या की प्रक्रिया तथा आचार-विचार सम्बन्धी कोई भी ज्ञान नहीं रखता मुझ अज्ञानी दास का उद्धार करो ।।

बन उपबन मग गिरि गृह माहीं। तुम्हरे बल हौं डरपत नाहीं॥

जनकसुता हरि दास कहावौ। ताकी सपथ बिलंब न लावौ॥

जै जै जै धुनि होत अकासा। सुमिरत होय दुसह दुख नासा॥

चरन पकरि, कर जोरि मनावौं। यहि औसर अब केहि गोहरावौं॥

उठु, उठु, चलु, तोहि राम दुहाई। पायँ परौं, कर जोरि मनाई॥

अर्थ-

  • आपकी कृपा का ही प्रभाव है कि जो आपकी शरण में है वह कभी भी किसी भी प्रकार के भय से भयभीत नहीं होता चाहे वह स्थल कोई जंगल हो अथवा सुन्दर उपवन चाहे घर हो अथवा कोई पर्वत ।।
  • हे जानकी एवं जानकी बल्लभ के परम प्रिय आप उनके ही दास कहाते हो ना , अब आपको उनकी ही सौगंध है इस दास की विपत्ति निवारण में विलम्ब मत कीजिये ।।
  • आपकी जय-जयकार की ध्वनि सदा ही आकाश में होती रहती है और आपका सुमिरन करते ही दारुण दुखों का भी नाश हो जाता है ।।
  • हे रामदूत अब मैं आपके चरणों की शरण में हूँ और हाथ जोड़ कर आपको मना रहा हूँ – ऐसे विपत्ति के अवसर पर आपके अतिरिक्त किससे अपना दुःख बखान करूँ ।।
  • हे करूणानिधि अब उठो और आपको भगवान राम की सौगंध है मैं आपसे हाथ जोड़कर एवं आपके चरणों में गिरकर अपनी विपत्ति नाश की प्रार्थना कर रहा हूँ ।।

ॐ चं चं चं चं चपल चलंता। ॐ हनु हनु हनु हनु हनुमंता॥

ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल। ॐ सं सं सहमि पराने खल-दल॥

अपने जन को तुरत उबारौ। सुमिरत होय आनंद हमारौ॥

यह बजरंग-बाण जेहि मारै। ताहि कहौ फिरि कवन उबारै॥

पाठ करै बजरंग-बाण की। हनुमत रक्षा करै प्रान की॥

यह बजरंग बाण जो जापैं। तासों भूत-प्रेत सब कापैं॥

धूप देय जो जपै हमेसा। ताके मन नहिं रहै कलेसा॥ 

अर्थ-

  •  हे चं वर्ण रूपी तीव्रातितीव्र वेग (वायु वेगी ) से चलने वाले, हे हनुमंत लला मेरी विपत्तियों का नाश करो ।।
  •  हे हं वर्ण रूपी आपकी हाँक से ही समस्त दुष्ट जन ऐसे निस्तेज हो जाते हैं जैसे सूर्योदय के समय अंधकार सहम जाता है।।
  • हे प्रभु आप ऐसे आनंद के सागर हैं कि आपका सुमिरण करते ही दास जन आनंदित हो उठते हैं अब अपने दास को विपत्तियों से शीघ्र ही उबार लो ।।
  • यह बजरंग बाण यदि किसी को मार दिया जाए तो फिर भला इस अखिल ब्रह्माण्ड में उबारने वाला कौन है ?
  • जो भी पूर्ण श्रद्धा युक्त होकर नियमित इस बजरंग बाण का पाठ करता है , श्री हनुमंत लला स्वयं उसके प्राणों की रक्षा में तत्पर रहते हैं ।।
  • जो भी व्यक्ति नियमित इस बजरंग बाण का जप करता है , उस व्यक्ति की छाया से भी बहुत-प्रेतादि कोसों दूर रहते हैं ।।
  • जो भी व्यक्ति धुप-दीप देकर श्रद्धा पूर्वक पूर्ण समर्पण से बजरंग बाण का पाठ करता है उसके शरीर पर कभी कोई व्याधि नहीं व्यापती है ।।

दोहा : 

उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान।

बाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान॥

अर्थ- 

  • प्रेम पूर्वक एवं विश्वासपूर्वक जो कपिवर श्री हनुमान जी का स्मरण करता हैं एवं सदा उनका ध्यान अपने हृदय में करता है उसके सभी प्रकार के कार्य हनुमान जी की कृपा से सिद्ध होते हैं ।।

Broadcast

Post a Comment

Please do not enter any spam link in a comment box.

Previous Post Next Post