Skip to main content

Posts

Most Popular Post

मंगलवार का देवता कौन है? | मंगलवार को कौन सा मंत्र पढ़ना चाहिए?

शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार का दिन भगवान गणेश, भगवान हनुमान, और देवी दुर्गा और काली को समर्पित है। मंगलवार को बजरंगबली का दिन माना जाता है। इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। मंगलवार की पूजा मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। हनुमान जी को शक्ति, बल, साहस और संकट मोचन का देवता माना जाता है। माना जाता है कि मंगलवार के दिन अगर सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ हनुमान जी की पूजा की जाए तो व्यक्ति को हर संकट से मुक्ति मिल जाती है। शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार के दिन देवी पूजा के लिए पंचमेवा, मिष्ठान, फल, लाल रंग के पुष्प और माला, कलावा, दिया, बाती, रोली, सिंदूर, पानी वाला नारियल, अक्षत, लाल कपड़ा, पूजा वाली सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, गाय का घी, कलश, आम का पत्ता, कमल गट्टा, समिधा, लाल चंदन, जौ, तिल, सोलह श्रृंगार का सामान आदि रखना चाहिए।  मंगलवार को व्रत रखने से कुंडली में मंगल दोष से मुक्ति भी मिल सकती है। मंगलवार के दिन में क्या खास है? मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, मंगलवार के दिन ही बजरं
Recent posts

ज्योतिष शास्त्र में बुधवार का देवता कौन है?

बुधवार को किसकी पूजा और क्यों की जाती है? ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, बुधवार के दिन बुध देव और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। ज्योतिष शास्त्र के जानकारों का मानना है कि बुधवार के स्वामी बुध ग्रह, बुद्धि का कारक है। वहीं, भगवान गणेश को बुद्धि का देवता माना जाता है।  बुधवार का दिन भगवान गणेश को समर्पित है. गणेश जी में आस्था रखने वाले लोग इस दिन बड़ी ही श्रद्धा के साथ उनकी पूजा-अर्चना और व्रत भी करते हैं। बुधवार को, भक्त अपने जीवन में सफलता और ज्ञान और नए रास्ते पर चलने के लिए उनका आशीर्वाद मांगते हैं। भगवान गणेश सभी तरह की बाधाओं को दूर करने वाले, शुभ ही शुभ करने वाले, बुद्धि, समृद्धि और धन देने वाले माने जाते हैं। बुधवार के दिन भगवान गणेश की खास पूजा-अर्चना करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। शास्त्रों में बताया गया है कि रविवार के दिन सूर्य, सोमवार के दिन चंद्रमा और भगवान शिव, मंगलवार के दिन हनुमान जी, बुधवार के दिन गणपित गणेश, गुरुवार के दिन देवगुरु बृहस्पति और भगवान विष्णु, शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी और शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करना शुभ फलदायी माना जाता है। गणेश ज

भक्ति की शक्ति का प्रभाव

भक्ति का चमत्कार   चौरासी लाख योनियों में जीव भ्रमण करते फिर रहे हैं। कभी पशु हो गया, कभी पक्षी हो गया। ईश्वर दया करके इनको मनुष्य-शरीर देते हैं कि इनका कल्याण हो जाय। हमें वह काम करना चाहिये जो आज तक नहीं किया। वह काम वही है जिससे भगवान् मिल जायँ। भगवान्के मिल जानेसे सदाके लिये दुःख मिट जाय, सारे दुर्गुणोंका नाश हो जाय, हमलोगोंमें दुराचार है चोरी करना, झूठ बोलना। इन सारे दुर्गुणोंका भगवान्‌की कृपासे नाश हो जाय और भी जो व्यसन हैं ताश खेलना, चौपड़ खेलना, तम्बाकू खाना, मनुष्यमें एक दोष थोड़े ही है, हजारों दोष हैं। हम पापके पुतले हैं। सारे पापोंके नाशके लिये यहाँ आये हैं। पापोंके नाशका यही उपाय है तपस्या करना, गंगाजीका दर्शन करना। यहाँ जंगलमें आना तपस्या ही है। इससे पापोंका नाश होता है। अपना हृदय मैला है, यह तप करनेसे, ध्यान करनेसे सारे पापोंका नाश होकर स्वच्छ हो जाय। गंगामें स्नान करनेसे सारा पाप नष्ट हो जाता है। जिस प्रकार अग्निको पुरानी घासमें रख देनेसे सारी घास भस्म हो जाती है। इस जगह थोड़ा-सा पुण्य करे तो महान् हो जाय और पाप भी थोड़ा करनेसे महान् हो जाय। यहाँ आकर ब्रह्मचर

शनिवार को किस देवता की पूजा की जाती है?

हिंदू धर्म में, शनिवार का दिन शनि देव को समर्पित है। शनिदेव को न्याय और अनुशासन का देवता माना जाता है। शनिदेव को न्याय प्रदाता भी माना जाता है, जो व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार फल प्रदान करते हैं। शनिवार का प्रमुख देवता शनिवार को हनुमान जी की पूजा का भी विधान है। पौराणिक कथा के मुताबिक, जब हनुमान जी सीता माता को खोजते हुए लंका पहुंचे, तो उनकी नजर शनि देव पर पड़ी। शनि देव ने बताया कि रावण ने उन्हें कैद कर लिया है। हनुमान जी ने शनि देव को रावण के चंगुल से मुक्त कराया। इसके बाद शनि देव ने प्रसन्न होकर हनुमान जी से वरदान मांगने के लिए कहा। हनुमान जी ने वर मांगा कि जो भी शनिवार को उनकी पूजा करेगा, उसे अशुभ फल नहीं देंगे। इसलिए शनिवार को हनुमान जी की पूजा करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं। शनिवार को हनुमान जी को लाल सिंदूर चढ़ाने से शनि देव की कृपा बरसती है। हनुमान जी को प्रसन्न करने और उनकी आराधना के लिए सुंदरकांड का पाठ करना भी बहुत ही फलदायी होता है।  हिंदू धर्म में शनिवार का व्रत काफी फलदायी माना गया है। मान्यता है कि जो भी इस दिन सच्चे दिल से शनिदेव का ध्यान करते हुए व्रत

Neem Karoli Baba Ki Mahasamadhi Ka Rahasya

Neem Karoli Baba Ki Mahasamadhi आप सभी ये जानने को उत्सुक होंगे की तब क्या हवा जब नीम करोली बाबा ने कहा की मैं क्या कर सकता हूँ जब भगवान ही मुझे बुला रहे हैं ? आज हम आपके इसी प्रश्न का उत्तर देने आए है। 10 सितंबर 1973 को नीम करोली बाबा ने महासमाधि क्यों ली अगले दिन सुबह, 10 सितंबर को, बाबा आगरा पहुंचे और लगभग 6 बजे जगमोहन शर्मा के घर गए। शर्मा जी ने उनका स्वागत किया और उन्हें पता चला कि बाबा का वापसी का टिकेट काठगोदाम के लिए भी उसी दिन रात की रेलगाड़ी से था। बाबा ने नाई बुलाया और दाढ़ी और बाल मुंडवा दिए। उन्होंने केवल चौलाई (रामदाना) खाया और कहा, "अब, अनाज और फलों से पोषण कम होता है। रामदाना बनाओ, में आज ये ही लूँगा।" फिर उन्होंने शर्मा से कहा, "आगे का समय खराब है। बड़े घरों में नहीं रहो। वहां लूटमार और हत्या अधिक होगी। छोटे घर में रहो।"  पूरे दिन बाबा ने इसी तरह की बातें की। उन्होंने शर्मा के पिता से कहा, "जब शरीर बूढ़ा हो जाता है, यह बेकार हो जाता है। इससे कोई लगाव नहीं होना चाहिए।"  बाबा काफी खुशहाल मूड में थे। उन्हें ऐसे देखकर शर्मा की सास न

अयोध्या राम मंदिर के उद्घाटन और इतिहास की सम्पूर्ण जानकारी

अयोध्या में बन रहा राम मंदिर एक महत्वपूर्ण हिंदू मंदिर है। जनवरी 2024 में इसका गर्भगृह और पहला तल बनकर तैयार हो गया है। 22 जनवरी 2024 को इसमें श्रीराम की मूर्ति की प्राणप्रतिष्ठा की जाएगी। अयोध्या राम जन्म भूमि रामायण के मुताबिक, अयोध्या में सरयू नदी के किनारे राम का जन्म हुआ था। रामायण और महाभारत में अयोध्या को राम और दशरथ सहित कोसल के इक्ष्वाकु राजवंश की राजधानी बताया गया है। अयोध्या की स्थापना मानव जाति के पूर्वज मनु ने की थी।  राम मंदिर के उद्घाटन पर अयोध्या में देशभर से करीब 3 से 5 लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने की उम्मीद है। पहले ही हफ़्ते में लगभग एक लाख श्रद्धालुओं के अयोध्या पहुंचने का अनुमान है। अयोध्या में घूमने के लिए कुछ और जगहें: नागेश्वर नाथ मंदिर देवकाली राम की पैड़ी जैन श्वेताम्बर मंदिर गुलाब बाड़ी कनक भवन हनुमान गढ़ी बिरला मंदिर अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन कब हुआ? राम मंदिर के निर्माण की शुरुआत के लिए भूमिपूजन 5 अगस्त 2020 को किया गया था। वर्तमान में निर्माणाधीन मंदिर की देखरेख श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा की जा रही है। मंदिर का उद्घा

लाहिड़ी महाशय का जीवन परिचय

लाहिड़ी महासाय ( Lahiri Mahasaya) श्यामाचरण लाहिड़ी (30 सितंबर 1828 – 26 सितंबर 1895) को लाहिड़ी महाशय के नाम से भी जाना जाता है। वह 19वीं शताब्दी के उच्च कोटि के साधक थे। उन्होंने सद्गृहस्थ के रूप में यौगिक पूर्णता प्राप्त की थी। लाहिड़ी महाशय एक महान गृहस्थ योगी थे. योग के प्रति समर्पण भाव के कारण उन्हें “योगावतार” के नाम से जाना जाता है। लाहिड़ी महाशय का जन्म 30 सितंबर, 1828 को भारत के बंगाल के घुरनी गाँव में हुआ था। 1832 में, एक बाढ़ में उनकी मां की मृत्यु हो गई और उनका घर नष्ट हो गया. इसके बाद उनका परिवार वाराणसी चला गया, जहां उन्होंने दर्शनशास्त्र, संस्कृत और अंग्रेज़ी में शिक्षा प्राप्त की। लाहिड़ी महाशय को क्रिया योग को पुनर्जीवित करने के लिए जाना जाता है। क्रिया योग एक प्राचीन ध्यान तकनीक है, जिसे पहले केवल उच्चतम आध्यात्मिक उन्नति वाले लोग ही जानते थे। लाहिड़ी महाशय ने अंग्रेज़ी फ़ौज में क्लर्क के रूप में सरकारी पद पर काम किया। उन्होंने साधक जीवन, नौकरी, और परिवार के बीच आदर्श संतुलन स्थापित किया।  1846 में उनका विवाह श्रीमती काशी मोनी से हुआ।  लाहिड़ी महाशय के कितने बच्चे थ

लाहरी महाशय और श्री राम ठाकुर | Lahri Mahashay Aur shri Ram Thakur | Neem Karoli Baba

नीम करोली बाबा के समकालीन संत लाहरी महाशय और श्री राम ठाकुर की कथा एक बार लाहड़ी महासय के घर वाराणसी मे एक ब्राह्मण भक्त जो श्री लाहड़ी जी के भक्त थे जो लाहड़ी महासय पास में बैठे थे। वहां एक निम्न जाति का जल भरने का काम करने वाला व्यक्ति भी महाशय के पास आता था। जो आज महासय के सामने बैठ गया। ब्राह्मण जी को यह बात सही नही लगी और उन्होंने उसे डांटते हुए पीछे बैठने को कहा।  इस पर श्री लाहड़ी जी ने साधना से उठ कर अपना स्थान छोड़ कर ब्राह्मण जी को गुस्से से देखा। साथ ही उस निम्न जाति के व्यक्ति से कहा तुम हमारे स्थान पर बैठो। हम नीचे बैठ जायेंगे। व्यक्ति ने सोचा कि लाहड़ी जी नाराज हो गए और वे मजाक में हमे ऐसा करने को कह रहे है। वह क्षमा मांगने लगा। किन्तु लाहड़ी जी ने उसे कहा हम चाहते है कि तुम्हे उच्च स्थान मिले। ताकि आगे से तुम्हारा कोई अपमान न करे। जाओ बैठो। सभी को लाहड़ी जी की बात समझ में आगई। एक बार संत  श्री राम ठाकुर के आश्रम में सत्संग चल रहा था । बाहर एक मुस्लिम प्रसाद लिए खड़ा था। श्री राम ठाकुर के एक भक्त ने उससे पूछा यहां क्या कर रहे हो।अंदर चलो वह बोला वह मुस्लिम है

Hanuman Setu Temple, Lucknow

हनुमान सेतु मंदिर ,लखनऊ (उत्तर प्रदेश ) मित्रो आज हम आप सबको एक ऐसे प्राचीन मंदिर का दर्शन करवाएंगे जिसकी महत्वत्ता का कोई तोड़ आज के समय में किसी के पास नहीं है। यह सुप्रसिद्ध मंदिर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हनुमान सेतु के नाम से विख्यात है।  इस मंदिर को बाबा नीब करोरी आश्रम भी कहते है क्योकि इस आश्रम या मंदिर की नीव डालने वाले बाबा नीब करोरी थे इस लिए इस मंदिर को उन्ही के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर या आश्रम का आधुनिक नाम हनुमान सेतु है। इस मंदिर में मुख्य रूप से श्री हनुमान जी ,श्री गणेश जी , और बाबा नीब करोरी की पूजा की जाती है। बाबा नीब करोरी सन 1967 में हनुमान जी के भक्तो को उपदेश दिया करते थे।  तब ही से लोगो द्वारा बाबा नीब करोरी को हनुमान जी का विशेष भक्त मन जाने लगा। एप्पल कंपनी के मालिक स्टीव जॉब्स और फेसबुक कंपनी के मालिक मार्क जुकरबर्ग को भी बाबा नीब करोरी से मार्ग दर्शन प्राप्त हुवा था। उसके बाद से ही वो दोनों अपने जीवन और व्यापर में कामयाब हो सके। इस बात का खुलासा खुद फेसबुक कंपनी के फाउंडर मार्क जुकेरबर्ग ने खुश दिनों पहले अपनी भारत यात्रा में कह

आदि शंकराचार्य का जीवन परिचय?

मठाधीश आदि शंकराचार्य आदि शंकराचार्य एक भारतीय दार्शनिक थे। 8वीं शताब्दी में रहने वाले आदि शंकराचार्य को हिंदू धर्म के विकास में सबसे प्रभावशाली शख्सियतों में से एक माना जाता है। उन्हें हिंदुत्व के सबसे महान प्रतिनिधियों में जाना जाता है। आदि शंकराचार्य का जन्म केरल के मालाबार क्षेत्र के कालड़ी नामक स्थान पर नम्बूद्री ब्राह्मण शिवगुरु और आर्याम्बा के घर हुआ था। विद्वानों के अनुसार, आदि शंकराचार्य भगवान शिव के अवतार थे। शास्त्रों में ऐसा भी वर्णन मिलता है कि कलियुग के प्रथम चरण में अपने चार शिष्यों के साथ जगद्गुरु ने धरती पर सनातन धर्म के उत्थान के लिए जन्म लिया था। आदि शंकराचार्य ने हिंदू विचार के प्राथमिक विद्यालयों में से एक, वेदांत दर्शन को व्यवस्थित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने अद्वैत वेदान्त को ठोस आधार प्रदान किया। भगवद्गीता, उपनिषदों और वेदांतसूत्रों पर लिखी हुई इनकी टीकाएँ बहुत प्रसिद्ध हैं। आदि शंकराचार्य ने प्राचीन भारतीय उपनिषदों के सिद्धान्तों को पुनर्जीवित करने का कार्य किया। उन्होंने ही इस ब्रह्म वाक्य को प्रचारित किया था कि 'ब्रह्म ही सत्य ह