Skip to main content

Most Popular Post

मंगलवार का देवता कौन है? | मंगलवार को कौन सा मंत्र पढ़ना चाहिए?

शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार का दिन भगवान गणेश, भगवान हनुमान, और देवी दुर्गा और काली को समर्पित है। मंगलवार को बजरंगबली का दिन माना जाता है। इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। मंगलवार की पूजा मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। हनुमान जी को शक्ति, बल, साहस और संकट मोचन का देवता माना जाता है। माना जाता है कि मंगलवार के दिन अगर सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ हनुमान जी की पूजा की जाए तो व्यक्ति को हर संकट से मुक्ति मिल जाती है। शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार के दिन देवी पूजा के लिए पंचमेवा, मिष्ठान, फल, लाल रंग के पुष्प और माला, कलावा, दिया, बाती, रोली, सिंदूर, पानी वाला नारियल, अक्षत, लाल कपड़ा, पूजा वाली सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, गाय का घी, कलश, आम का पत्ता, कमल गट्टा, समिधा, लाल चंदन, जौ, तिल, सोलह श्रृंगार का सामान आदि रखना चाहिए।  मंगलवार को व्रत रखने से कुंडली में मंगल दोष से मुक्ति भी मिल सकती है। मंगलवार के दिन में क्या खास है? मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, मंगलवार के दिन ही बजरं

अयोध्या राम मंदिर के उद्घाटन और इतिहास की सम्पूर्ण जानकारी

अयोध्या में बन रहा राम मंदिर एक महत्वपूर्ण हिंदू मंदिर है। जनवरी 2024 में इसका गर्भगृह और पहला तल बनकर तैयार हो गया है। 22 जनवरी 2024 को इसमें श्रीराम की मूर्ति की प्राणप्रतिष्ठा की जाएगी।

अयोध्या राम जन्म भूमि

रामायण के मुताबिक, अयोध्या में सरयू नदी के किनारे राम का जन्म हुआ था। रामायण और महाभारत में अयोध्या को राम और दशरथ सहित कोसल के इक्ष्वाकु राजवंश की राजधानी बताया गया है। अयोध्या की स्थापना मानव जाति के पूर्वज मनु ने की थी। 
राम मंदिर के उद्घाटन पर अयोध्या में देशभर से करीब 3 से 5 लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने की उम्मीद है। पहले ही हफ़्ते में लगभग एक लाख श्रद्धालुओं के अयोध्या पहुंचने का अनुमान है।

अयोध्या में घूमने के लिए कुछ और जगहें:

नागेश्वर नाथ मंदिर
देवकाली
राम की पैड़ी
जैन श्वेताम्बर मंदिर
गुलाब बाड़ी
कनक भवन
हनुमान गढ़ी
बिरला मंदिर

अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन कब हुआ?

राम मंदिर के निर्माण की शुरुआत के लिए भूमिपूजन 5 अगस्त 2020 को किया गया था। वर्तमान में निर्माणाधीन मंदिर की देखरेख श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा की जा रही है। मंदिर का उद्घाटन 22 जनवरी 2024 को निर्धारित है।

राम मंदिर का उद्घाटन कितने बजे है?

अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन 22 जनवरी, 2024 को दोपहर 12:20 बजे होगा। प्राण प्रतिष्ठा समारोह 17 जनवरी, 2024 को शुरू हुआ था और 22 जनवरी, 2024 को खत्म होगा।
श्रद्धालु सुबह 7 बजे से 11:30 बजे तक और दोपहर 2 बजे से शाम 7 बजे तक मंदिर में दर्शन कर सकेंगे। श्रृंगार आरती सुबह 6:30 बजे से शुरू होती है।
प्राण प्रतिष्ठा दोपहर 12:20 बजे शुरू होगी और 1 बजे तक पूरी हो जाएगी। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, डॉ. मोहन भागवत, और मुख्यमंत्री अपने विचार रखेंगे। नृत्यगोपाल दास अपना आशीर्वाद देंगे।
पूरे समारोह का सीधा प्रसारण डीडी न्यूज़ पर किया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय दर्शक इसे दूरदर्शन नेशनल के यूट्यूब चैनल पर देख सकते हैं।

राम मंदिर अयोध्या हिस्ट्री

राम मंदिर की नींव साल 1989 में रखी गई थी। राम मंदिर से जुड़ी कुछ ज़रूरी बातें:
रामायण के मुताबिक, राम का जन्म अयोध्या में हुआ था।
16वीं सदी में, बाबर ने मंदिरों पर हमला किया और उन्हें नष्ट कर दिया।
बाद में, मुगलों ने बाबरी मस्जिद का निर्माण किया।
1950 में, राम मंदिर की लड़ाई फिर अदालत पहुंची।
5 अगस्त 2020 को मंदिर का भूमिपूजन हुआ।
2024 में गर्भगृह बनकर तैयार है।
पौराणिक कथाओं के मुताबिक, भगवान राम के जल समाधि लेने के बाद और महाभारत युद्ध के बाद अयोध्या उजाड़ हो गई थी. फिर से बसने के बाद भी, राम जन्म भूमि और यहां बने मंदिर पर कई बार हमले हुए।

राम मंदिर से जुड़ी कुछ और बातें:

राम जन्मभूमि पर पहले भी श्री राम का मंदिर था।
मस्जिद से पहले भी यहां पर मंदिर था और मस्जिद बनने के बाद भी यहां मंदिर था।
मस्जिद के टूटने के बाद भी यहां मंदिर था।
1528-29 में बाबर के सिपहसालार ने बाबरी मस्जिद बनवाई थी।

अयोध्या राम मंदिर में कितने पिलर है?

ये मंदिर 3 मंजिल का होगा। मंदिर का परिसर कुल 57 एकड़ का है, जिसमें से 10 एकड़ में मंदिर बनाया गया है। मंदिर की लंबाई 360 फीट, चौड़ाई 235 फीट, ऊंचाई 161 फीट है। मंदिर में 5 मंडप, 318 खंभे हैं।

राम मंदिर का निर्माण कब और किसने करवाया?

पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण उज्जयिनी के राजा विक्रमादित्य ने कराया था।
 पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, राजा विक्रमादित्य जब आखेट करने आए थे, तो उन्हें उजाड़ भूमि पर कुछ चमत्कार दिखाई दिए। उन्होंने खोजबीन की, तो पता चला कि ये श्रीराम की अवध भूमि है। इसके बाद उन्होंने यहां श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण कराया।
इतिहासकारों का मानना है कि 1130 और 1150 में गहड़वाल (गहरवार) राजपूत वंश के सम्राट गोविंदचंद्र ने श्री रामजन्मभूमि स्थल पर एक विष्णु मंदिर का निर्माण कराया था।
कहा जाता है कि राजा विक्रमादित्य द्वारा बनवाया गया रामलला का मंदिर 1528 में बाबर के सेनापति मीर बाकी ने ढहाया था। विदेशी आक्रांता बाबर के आदेश पर उसके सेनापति मीरबाकी ने 1528 में मंदिर को ध्वस्त कर दिया था। उसी के मलबे से मंदिर की नींव पर ही मस्जिदनुमा ढांचा बनवाया गया।
राम मंदिर के निर्माण की शुरुआत के लिए भूमिपूजन 5 अगस्त 2020 को किया गया था। वर्तमान में निर्माणाधीन मंदिर की देखरेख श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा की जा रही है। मंदिर का उद्घाटन 22 जनवरी 2024 को निर्धारित है।

राम मंदिर ट्रस्ट

राम मंदिर के लिए बने ट्रस्ट का नाम 'श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' है। इस ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य हैं। 5 फ़रवरी, 2020 को लोकसभा में राम मंदिर पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ट्रस्ट के गठन की घोषणा की थी। 
राम मंदिर का निर्माण 5 अगस्त, 2020 को शुरू हुआ था। इस समय मंदिर का निर्माण कार्य चल रहा है और इसकी देखरेख श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट कर रहा है। 22 जनवरी, 2024 को राम मंदिर का उद्घाटन होना है। 
इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगे।

राम मंदिर को कौन सी कंपनी बना रही है?

देश की सबसे बड़ी कंस्ट्रक्शन कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (Larsen and Toubro) राम मंदिर का निर्माण कर रही है। नवंबर 2020 में लार्सन एंड टुब्रो को अयोध्या में राम मंदिर बनाने का प्रोजेक्ट मिला था।
इस निर्माण में भारत के कई तकनीकी संस्थानों के विशेषज्ञों का मार्गदर्शन भी कंपनी को मिल रहा है। टाटा कंस्ट्रक्शन कंपनी को लार्सन एंड टुब्रो के काम को परखने का जिम्मा सौंपा गया था।
राम मंदिर की अनुमानित लागत 1,800 करोड़ रुपये है। यह हाल के वर्षों में भारत की सबसे महंगी धार्मिक परियोजनाओं में से एक है।

अयोध्या राम मंदिर को फंड कौन देता है?

राम मंदिर के लिए दान देने वाले लोग, करदाता, और विश्व हिंदू परिषद हैं। जनवरी-फ़रवरी 2021 में विश्व हिंदू परिषद ने राम मंदिर निर्माण के लिए धन जुटाने का अभियान चलाया था। इस अभियान में 20 लाख से ज़्यादा स्वयंसेवकों ने 12.7 करोड़ परिवारों तक पहुंचकर चंदा इकट्ठा किया था। 
सीएम योगी ने कहा है कि सरकार ने राम मंदिर के लिए कोई पैसा नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि राम भक्तों के सहयोग से ही मंदिर का निर्माण हो रहा है।
करदाता श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ज़रिए राम मंदिर के लिए पैसे दान कर सकते हैं। यह ट्रस्ट अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण और प्रबंधन के लिए ज़िम्मेदार है।

Comments

Popular posts from this blog

Vishnu Sahasranamam Stotram With Hindi Lyrics

Vishnu Sahasranamam Stotram Mahima ॐ  नमो भगवते वासुदेवाय नमः  प्रिय भक्तों विष्णु सहस्त्रनाम भगवान श्री हरि विष्णु अर्थात भगवान नारायण के 1000 नामों की वह श्रृंखला है जिसे जपने मात्र से मानव के समस्त दुख और कष्ट दूर हो जाते हैं और भगवान विष्णु की अगाध कृपा प्राप्त होती है।  विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करने में कोई ज्यादा नियम विधि नहीं है परंतु मन में श्रद्धा और विश्वास अटूट होना चाहिए। भगवान की पूजा करने का एक विधान है कि आपके पास पूजन की सामग्री हो या ना हो पर मन में अपने इष्ट के प्रति अगाध विश्वास और श्रद्धा अवश्य होनी चाहिए।  ठीक उसी प्रकार विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते समय आपके हृदय में भगवान श्री विष्णु अर्थात नारायण के प्रति पूर्ण प्रेम श्रद्धा विश्वास और समर्पण भाव का होना अति आवश्यक है। जिस प्रकार की मनो स्थिति में होकर आप विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करेंगे उसी मनो स्तिथि में भगवान विष्णु आपकी पूजा को स्वीकार करके आपके ऊपर अपनी कृपा प्रदान करेंगे।    भगवान विष्णु के सहस्त्र नामों का पाठ करने की महिमा अगाध है। श्रीहरि भगवान विष्णु के 1000 नामों (Vishnu 1000 Names)के स्मरण मात्र से मनु

हनुमान वडवानल स्रोत महिमा - श्री कैंची धाम | Hanuman Vadvanal Stotra Mahima - Shri Kainchi Dham

हनुमान वडवानल स्रोत महिमा - श्री कैंची धाम | Hanuman Vadvanal Stotra Mahima - Shri Kainchi Dham   श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र की रचना त्रेतायुग में लंका अधिपति रावण के छोटे भाई विभीषण जी ने की थी। त्रेतायुग से आज तक ये मंत्र अपनी सिद्धता का प्रमाण पग-पग पे देता आ रहा है।  श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र के जाप से बड़ी से बड़ी समस्या भी टल जाती है। श्री हनुमान वडवानल स्रोत का प्रयोग अत्यधिक बड़ी समस्या होने पर ही किया जाता है। इसके जाप से बड़ी से बड़ी समस्या भी टल जाती है और सब संकट नष्ट होकर सुख-समृद्धि प्राप्त होती है।  श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र के प्रयोग से शत्रुओं द्वारा किए गए पीड़ा कारक कृत्य अभिचार, तंत्र-मंत्र, बंधन, मारण प्रयोग आदि शांत होते हैं और समस्त प्रकार की बाधाएं समाप्त होती हैं। पाठ करने की विधि शनिवार के दिन शुभ मुहूर्त में इस प्रयोग को आरंभ करें। सुबह स्नान-ध्यान आदि से निवृत्त होकर हनुमानजी की पूजा करें, उन्हें फूल-माला, प्रसाद, जनेऊ आदि अर्पित करें। इसके बाद सरसों के तेल का दीपक जलाकर लगातार 41 दिनों तक 108 बार पाठ करें।

Bajrang Baan Chaupai With Hindi Lyrics

बजरंग बाण की शक्ति: इसके अर्थ और लाभ के लिए एक मार्गदर्शिका क्या आप बजरंग बाण और उसके महत्व के बारे में जानने को उत्सुक हैं? यह व्यापक मार्गदर्शिका आपको इस शक्तिशाली प्रार्थना के पीछे के गहन अर्थ की गहरी समझ प्रदान करेगी। बजरंग बाण का पाठ करने के अविश्वसनीय लाभों की खोज करें और अपने भीतर छिपी शक्ति को उजागर करें। बजरंग बाण को समझना: भगवान हनुमान को समर्पित एक शक्तिशाली हिंदू प्रार्थना, बजरंग बाण की उत्पत्ति और महत्व के बारे में जानें। बजरंग बाण हिंदू धर्म में पूजनीय देवता भगवान हनुमान को समर्पित एक पवित्र प्रार्थना है। यह प्रार्थना अत्यधिक महत्व रखती है और माना जाता है कि इसमें उन लोगों की रक्षा करने और आशीर्वाद देने की शक्ति है जो इसे भक्तिपूर्वक पढ़ते हैं। इस गाइड में, हम बजरंग बाण की उत्पत्ति के बारे में गहराई से जानेंगे और इसके गहरे आध्यात्मिक अर्थ का पता लगाएंगे। इस प्रार्थना के सार को समझकर, आप इसके अविश्वसनीय लाभों का लाभ उठा सकते हैं और इसमें मौजूद परिवर्तनकारी शक्ति का अनुभव कर सकते हैं। बजरंग बाण का पाठ: अधिकतम प्रभावशीलता और आध्यात्मिक लाभ के लिए बजरंग बाण का ज