Skip to main content

Most Popular Post

मंगलवार का देवता कौन है? | मंगलवार को कौन सा मंत्र पढ़ना चाहिए?

शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार का दिन भगवान गणेश, भगवान हनुमान, और देवी दुर्गा और काली को समर्पित है। मंगलवार को बजरंगबली का दिन माना जाता है। इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। मंगलवार की पूजा मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। हनुमान जी को शक्ति, बल, साहस और संकट मोचन का देवता माना जाता है। माना जाता है कि मंगलवार के दिन अगर सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ हनुमान जी की पूजा की जाए तो व्यक्ति को हर संकट से मुक्ति मिल जाती है। शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार के दिन देवी पूजा के लिए पंचमेवा, मिष्ठान, फल, लाल रंग के पुष्प और माला, कलावा, दिया, बाती, रोली, सिंदूर, पानी वाला नारियल, अक्षत, लाल कपड़ा, पूजा वाली सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, गाय का घी, कलश, आम का पत्ता, कमल गट्टा, समिधा, लाल चंदन, जौ, तिल, सोलह श्रृंगार का सामान आदि रखना चाहिए।  मंगलवार को व्रत रखने से कुंडली में मंगल दोष से मुक्ति भी मिल सकती है। मंगलवार के दिन में क्या खास है? मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, मंगलवार के दिन ही बजरं

लाहिड़ी महाशय का जीवन परिचय

लाहिड़ी महासाय (Lahiri Mahasaya)

श्यामाचरण लाहिड़ी (30 सितंबर 1828 – 26 सितंबर 1895) को लाहिड़ी महाशय के नाम से भी जाना जाता है। वह 19वीं शताब्दी के उच्च कोटि के साधक थे। उन्होंने सद्गृहस्थ के रूप में यौगिक पूर्णता प्राप्त की थी।
लाहिड़ी महाशय एक महान गृहस्थ योगी थे. योग के प्रति समर्पण भाव के कारण उन्हें “योगावतार” के नाम से जाना जाता है।
लाहिड़ी महाशय का जन्म 30 सितंबर, 1828 को भारत के बंगाल के घुरनी गाँव में हुआ था। 1832 में, एक बाढ़ में उनकी मां की मृत्यु हो गई और उनका घर नष्ट हो गया. इसके बाद उनका परिवार वाराणसी चला गया, जहां उन्होंने दर्शनशास्त्र, संस्कृत और अंग्रेज़ी में शिक्षा प्राप्त की।
लाहिड़ी महाशय को क्रिया योग को पुनर्जीवित करने के लिए जाना जाता है। क्रिया योग एक प्राचीन ध्यान तकनीक है, जिसे पहले केवल उच्चतम आध्यात्मिक उन्नति वाले लोग ही जानते थे।
लाहिड़ी महाशय ने अंग्रेज़ी फ़ौज में क्लर्क के रूप में सरकारी पद पर काम किया। उन्होंने साधक जीवन, नौकरी, और परिवार के बीच आदर्श संतुलन स्थापित किया। 1846 में उनका विवाह श्रीमती काशी मोनी से हुआ। 

लाहिड़ी महाशय के कितने बच्चे थे?

उनके दो संत पुत्र हुए, टिनकौरी और डुकौरी। डुकौरी को पागलपन का दौरा पड़ा था। लाहिड़ी महाशय की एक बेटी की शादी हुई थी, लेकिन वह हैजा से मर गई। एक बेटी शादी के बाद विधवा हो गई और अपने पिता के घर रहने लगी।

लाहिड़ी महाशय कहाँ रहते थे?

लाहिड़ी महाशय भारत के पवित्र शहर वाराणसी (बनारस) में रहते थे। उन्होंने सच्चे साधकों को क्रिया योग सिखाया। लाहिड़ी महाशय का जन्म 30 सितंबर, 1828 को भारत के बंगाल के घुरनी गाँव में हुआ था। 1832 में, एक बाढ़ में उनकी मां की मृत्यु हो गई और उनका घर नष्ट हो गया। इसके बाद उनका परिवार वाराणसी चला गया, जहां उन्होंने दर्शनशास्त्र, संस्कृत और अंग्रेज़ी में शिक्षा प्राप्त की।

लाहिड़ी महाशय के चमत्कार

लाहिड़ी महाशय के कुछ चमत्कारों के बारे में जानकारीः 
  • लाहिड़ी महाशय के जीवन में एक चमत्कार तब हुआ जब वे पहाड़ पर घूमने गए। एक संन्यासी के आकर्षण ने उन्हें अपनी ओर खींचा और वे उस जगह पर पहुंच गए।
  • लाहिड़ी महाशय ने एक अंधे शिष्य रामू के लिए सक्रिय दया जगाई। रामू अंधेपन से ठीक हो गया।
  • एक बार लाहिड़ी महाशय ने आँखें खोलीं तो देखा कि बिल्ली का बच्चा गायब है। उन्होंने उसे एक अँधेरे कोने में हैरान नज़र से अपनी ओर घूरते हुए पाया।
  • लाहिड़ी महाशय ने अपने गुरु बाबाजी से क्रिया योग की ऐसी क्रिया सीखी थी, जिससे शरीर में ऑक्सिजन बढ़ती है। यह क्रिया दिमाग और मेरुदंड के चक्रों में नई ताकत डाल देती है।
  • लाहिड़ी महाशय ने वेदान्त, सांख्य, वैशेषिक, योगदर्शन और कई संहिताओं की व्याख्या भी प्रकाशित की। उनकी प्रणाली की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि गृहस्थ व्यक्ति भी योगाभ्यास से चिरशांति पा सकता है और योग के उच्चतम शिखर पर पहुंच सकता है।
लाहिड़ी महाशय के बारे में ज़्यादा जानकारी: 
  • लाहिड़ी महाशय को क्रिया योग को दोबारा शुरू करने के लिए जाना जाता है।
  • लाहिड़ी महाशय ने अपनी पत्नी, परमहंस योगानंद के माता-पिता, और योगानंद के गुरु श्री युक्तेश्वर गिरि सहित कई अन्य लोगों को क्रिया योग सिखाया।
  • लाहिड़ी महाशय के चमत्कार के कई किस्से हैं।
  • परमहंस योगानंद के गुरु स्वामी युत्तेश्वर गिरि लाहरी महाशय के शिष्य थे।
  • परमहंस योगानंद ने अपनी किताब 'ऑटोबायोग्राफ़ी ऑफ़ योगी' (योगी की आत्मकथा, 1946) में लाहिड़ी महाशय का ज़िक्र किया है।

लाहिरी महाशय की मृत्यु कब और कैसे हुवी?

लाहिड़ी महाशय की मृत्यु 26 सितंबर 1895 को हुई थी। उनका अंतिम संस्कार वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर किया गया था।
लाहिड़ी महाशय का जन्म 30 सितंबर 1828 को घुरानी, पंजाब में हुआ था। 1832 में, एक बाढ़ में उनकी मां की मौत हो गई और उनका घर नष्ट हो गया। इसके बाद, उनका परिवार वाराणसी चला गया। वहां उन्होंने दर्शनशास्त्र, संस्कृत, और अंग्रेज़ी में शिक्षा हासिल की। 
लाहिड़ी महाशय ने क्रिया योग की तकनीकों में दीक्षा ली थी। महावतार बाबाजी ने उन्हें क्रिया योग के विज्ञान में दीक्षा दी थी। बाबाजी ने लाहिड़ी से कहा था कि उनका बाकी का जीवन क्रिया संदेश फैलाने में लगेगा।
लाहिड़ी महाशय के संक्रमण ने जीवन और मृत्यु पर उनकी महारत को दिखाया। क्रिया योग के अभ्यास के ज़रिए उन्होंने कितनी गहरी आध्यात्मिक ऊंचाइयों तक पहुंच बनाई थी।

Comments

Popular posts from this blog

Vishnu Sahasranamam Stotram With Hindi Lyrics

Vishnu Sahasranamam Stotram Mahima ॐ  नमो भगवते वासुदेवाय नमः  प्रिय भक्तों विष्णु सहस्त्रनाम भगवान श्री हरि विष्णु अर्थात भगवान नारायण के 1000 नामों की वह श्रृंखला है जिसे जपने मात्र से मानव के समस्त दुख और कष्ट दूर हो जाते हैं और भगवान विष्णु की अगाध कृपा प्राप्त होती है।  विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करने में कोई ज्यादा नियम विधि नहीं है परंतु मन में श्रद्धा और विश्वास अटूट होना चाहिए। भगवान की पूजा करने का एक विधान है कि आपके पास पूजन की सामग्री हो या ना हो पर मन में अपने इष्ट के प्रति अगाध विश्वास और श्रद्धा अवश्य होनी चाहिए।  ठीक उसी प्रकार विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते समय आपके हृदय में भगवान श्री विष्णु अर्थात नारायण के प्रति पूर्ण प्रेम श्रद्धा विश्वास और समर्पण भाव का होना अति आवश्यक है। जिस प्रकार की मनो स्थिति में होकर आप विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करेंगे उसी मनो स्तिथि में भगवान विष्णु आपकी पूजा को स्वीकार करके आपके ऊपर अपनी कृपा प्रदान करेंगे।    भगवान विष्णु के सहस्त्र नामों का पाठ करने की महिमा अगाध है। श्रीहरि भगवान विष्णु के 1000 नामों (Vishnu 1000 Names)के स्मरण मात्र से मनु

हनुमान वडवानल स्रोत महिमा - श्री कैंची धाम | Hanuman Vadvanal Stotra Mahima - Shri Kainchi Dham

हनुमान वडवानल स्रोत महिमा - श्री कैंची धाम | Hanuman Vadvanal Stotra Mahima - Shri Kainchi Dham   श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र की रचना त्रेतायुग में लंका अधिपति रावण के छोटे भाई विभीषण जी ने की थी। त्रेतायुग से आज तक ये मंत्र अपनी सिद्धता का प्रमाण पग-पग पे देता आ रहा है।  श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र के जाप से बड़ी से बड़ी समस्या भी टल जाती है। श्री हनुमान वडवानल स्रोत का प्रयोग अत्यधिक बड़ी समस्या होने पर ही किया जाता है। इसके जाप से बड़ी से बड़ी समस्या भी टल जाती है और सब संकट नष्ट होकर सुख-समृद्धि प्राप्त होती है।  श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र के प्रयोग से शत्रुओं द्वारा किए गए पीड़ा कारक कृत्य अभिचार, तंत्र-मंत्र, बंधन, मारण प्रयोग आदि शांत होते हैं और समस्त प्रकार की बाधाएं समाप्त होती हैं। पाठ करने की विधि शनिवार के दिन शुभ मुहूर्त में इस प्रयोग को आरंभ करें। सुबह स्नान-ध्यान आदि से निवृत्त होकर हनुमानजी की पूजा करें, उन्हें फूल-माला, प्रसाद, जनेऊ आदि अर्पित करें। इसके बाद सरसों के तेल का दीपक जलाकर लगातार 41 दिनों तक 108 बार पाठ करें।

Bajrang Baan Chaupai With Hindi Lyrics

बजरंग बाण की शक्ति: इसके अर्थ और लाभ के लिए एक मार्गदर्शिका क्या आप बजरंग बाण और उसके महत्व के बारे में जानने को उत्सुक हैं? यह व्यापक मार्गदर्शिका आपको इस शक्तिशाली प्रार्थना के पीछे के गहन अर्थ की गहरी समझ प्रदान करेगी। बजरंग बाण का पाठ करने के अविश्वसनीय लाभों की खोज करें और अपने भीतर छिपी शक्ति को उजागर करें। बजरंग बाण को समझना: भगवान हनुमान को समर्पित एक शक्तिशाली हिंदू प्रार्थना, बजरंग बाण की उत्पत्ति और महत्व के बारे में जानें। बजरंग बाण हिंदू धर्म में पूजनीय देवता भगवान हनुमान को समर्पित एक पवित्र प्रार्थना है। यह प्रार्थना अत्यधिक महत्व रखती है और माना जाता है कि इसमें उन लोगों की रक्षा करने और आशीर्वाद देने की शक्ति है जो इसे भक्तिपूर्वक पढ़ते हैं। इस गाइड में, हम बजरंग बाण की उत्पत्ति के बारे में गहराई से जानेंगे और इसके गहरे आध्यात्मिक अर्थ का पता लगाएंगे। इस प्रार्थना के सार को समझकर, आप इसके अविश्वसनीय लाभों का लाभ उठा सकते हैं और इसमें मौजूद परिवर्तनकारी शक्ति का अनुभव कर सकते हैं। बजरंग बाण का पाठ: अधिकतम प्रभावशीलता और आध्यात्मिक लाभ के लिए बजरंग बाण का ज