Skip to main content

Most Popular Post

मंगलवार का देवता कौन है? | मंगलवार को कौन सा मंत्र पढ़ना चाहिए?

शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार का दिन भगवान गणेश, भगवान हनुमान, और देवी दुर्गा और काली को समर्पित है। मंगलवार को बजरंगबली का दिन माना जाता है। इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। मंगलवार की पूजा मंगलवार को हनुमान जी की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। हनुमान जी को शक्ति, बल, साहस और संकट मोचन का देवता माना जाता है। माना जाता है कि मंगलवार के दिन अगर सच्चे मन और पूरी श्रद्धा के साथ हनुमान जी की पूजा की जाए तो व्यक्ति को हर संकट से मुक्ति मिल जाती है। शास्त्रों के मुताबिक, मंगलवार के दिन देवी पूजा के लिए पंचमेवा, मिष्ठान, फल, लाल रंग के पुष्प और माला, कलावा, दिया, बाती, रोली, सिंदूर, पानी वाला नारियल, अक्षत, लाल कपड़ा, पूजा वाली सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, गाय का घी, कलश, आम का पत्ता, कमल गट्टा, समिधा, लाल चंदन, जौ, तिल, सोलह श्रृंगार का सामान आदि रखना चाहिए।  मंगलवार को व्रत रखने से कुंडली में मंगल दोष से मुक्ति भी मिल सकती है। मंगलवार के दिन में क्या खास है? मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक, मंगलवार के दिन ही बजरं

Neem Karoli Baba Ki Mahasamadhi Ka Rahasya

Neem Karoli Baba Ki Mahasamadhi

आप सभी ये जानने को उत्सुक होंगे की तब क्या हवा जब नीम करोली बाबा ने कहा की मैं क्या कर सकता हूँ जब भगवान ही मुझे बुला रहे हैं ? आज हम आपके इसी प्रश्न का उत्तर देने आए है।

10 सितंबर 1973 को नीम करोली बाबा ने महासमाधि क्यों ली

अगले दिन सुबह, 10 सितंबर को, बाबा आगरा पहुंचे और लगभग 6 बजे जगमोहन शर्मा के घर गए। शर्मा जी ने उनका स्वागत किया और उन्हें पता चला कि बाबा का वापसी का टिकेट काठगोदाम के लिए भी उसी दिन रात की रेलगाड़ी से था। बाबा ने नाई बुलाया और दाढ़ी और बाल मुंडवा दिए। उन्होंने केवल चौलाई (रामदाना) खाया और कहा, "अब, अनाज और फलों से पोषण कम होता है। रामदाना बनाओ, में आज ये ही लूँगा।" फिर उन्होंने शर्मा से कहा, "आगे का समय खराब है। बड़े घरों में नहीं रहो। वहां लूटमार और हत्या अधिक होगी। छोटे घर में रहो।"  पूरे दिन बाबा ने इसी तरह की बातें की। उन्होंने शर्मा के पिता से कहा, "जब शरीर बूढ़ा हो जाता है, यह बेकार हो जाता है। इससे कोई लगाव नहीं होना चाहिए।"  बाबा काफी खुशहाल मूड में थे। उन्हें ऐसे देखकर शर्मा की सास ने उनसे पूछा, "क्या आप वही बाबा हैं जिन्होंने एक बार ट्रेन रोक दी?" बाबा हँसे और कहा, "तुम्हे भी इसके बारे में जानकारी मिल गयी।"
वहां से बाबा अपने भक्त डॉ माथुर, जो हृदय रोग विशेषज्ञ थे, को मिले। बाबा ने उन्हें अपने दिल से सम्बंधित लक्षणों के बारे में बताया और उनसे जांच करने के लिए कहा। डॉक्टर ने बाबा का कार्डियोग्राम (ECG) लिया और उन्हें स्वस्थ पाया। उन्होंने कहा कि खून बुढ़ापे में थोड़ा गाढ़ा है, जो बैचैनी का कारण हो सकता है। उन्होंने बाबा को कई तरह की गोलियां दीं, और कहा समयानुसार लेने पर दवाइयां बैचैनी को रोक देंगी। बाबा पर इसका प्रभाव नहीं हुआ और उन्होंने कहा, "आप गलत हैं, मैं हृदय रोग से पीड़ित हूं।" डॉक्टर ने उत्तर दिया कि उनके पास अमेरिका से आयातित एक नई मशीन है और यह गलत नहीं हो सकती। बाबा ने कहा, "क्या आपकी मशीन ईश्वर है जो कि यह गलत नहीं हो सकती?" हालांकि बाबा ने डॉ माथुर द्वारा दी गई दवाइयां रख ली, लेकिन उन्होंने इसका इस्तेमाल नहीं किया। यह निश्चित रूप से नहीं कहा जा सकता है कि बाबा को क्या बीमारी थी या फिर किसकी बीमारी उन्होंने खुद पर ले ली थी।
उस शाम बाबा धर्म नारायण और रवि खन्ना को अपने साथ आगरा स्टेशन ले गए और वे रात की गाड़ी के लिए समय पर पहुंच गए । बाबा के पास पहले से ही टिकट थे, और उन्होंने काठगोदाम जाने वाली रेलगाड़ी के प्रथम श्रेणी के डिब्बे में अपनी सीटें ले लीं। 

11 सितंबर 1973 (महासमाधि का दिन) का घटनाक्रम

बाबा के आदेश से जब  गाडी मथुरा में रुकी तो वे सभी रेलगाड़ी से उतर गए स्टेशन पर कुछ भक्तों ने बाबा के पैर छूए। कुछ समय बाद बाबा ने अपनी आँखें बंद कर दीं और उनके शरीर से पसीना छूटने लगा। उन्होंने पानी माँगा, और पानी पीने के बाद, उन्होंने उन्हें वृंदावन ले चलने के लिए कहा। जब तक एक टैक्सी की व्यवस्था की गई, तब तक बाबा बेहोश हो गए थे। 
उन्हें आश्रम ले जाने के बजाय, वे उन्हें वृंदावन में रामकृष्ण मिशन अस्पताल ले गए जहां उन्हें ऑक्सीजन दिया गया। जब उनके रक्तचाप (BP) की जांच की तैयारी की जा रही थी , बाबा ने नाक से ऑक्सीजन ट्यूब को खींच लिया और रक्तचाप के यंत्र को एक तरफ धकेल दिया और धीमी आवाज़ में कहा, "यह सब बेकार है।" इसके तत्काल बाद, उन्होंने भगवान का नाम तीन बार दोहराया, "जगदीश, जगदीश, जगदीश", और फिर उनका शरीर शिथिल पड़ गया। यह 1:15 बजे मध्यरात्रि में 11 सितम्बर, अनंत चतुर्दशी का पवित्र दिन था, जब बाबा ने हृदयाघात के कारण खुद को अनन्त में विलीन कर दिया।
जब पूरा भारत गहरी नींद सो रहा था, तब बाबा ने अपने भौतिक लीला को अपने भक्तों से दूर समाप्त कर दिया। बाबा के शरीर को आश्रम ले जाया गया, जहां चौकीदार त्रिलोक सिंह रात में उनके साथ बैठा रहे। त्रिलोक सिंह ने बाबा के हाथों को अपने हाथों में पकड़ा। अपनी आँखें बंद करके बैठे हुए, उन्होंने बाबा की नब्ज़ चलने का अनुभव किया। हालांकि, जब उन्होंने अपनी आँखें खोली और फिर से जाँच की तो ये शांत थी। इस तरह बाबा का अलौकिक-दिव्य खेल शुरू हुआ।

नीम करोली बाबा की समाधि के बाद क्या हुवा 

बनवारी लाल पाठक, वृंदावन के क पुजारी और बाबा के एक भक्त अस्पताल पहुंचे थे क्योंकि महाराज को आश्रम ले जाया जाना था। उन्होंने आगरा, दिल्ली, कानपुर, लखनऊ, नैनीताल और अन्य शहरों में फोन या टेलीग्राम के जरिए लोगों को सूचित करना शुरू कर दिया। अखिल भारतीय आकाशवाणी (ALL INDIA  RADIO) ने भी अपने सुबह और शाम के समाचार बुलेटिनों में पूरे देश में ये समाचार प्रसारित किया। अगले सुबह हर जगह से भक्तगण वृन्दावन के लिए रवाना हो गए बिना खाना या पानी लिए। पास के शहरों और आस-पास के इलाकों से भक्तगण सुबह सुबह जल्दी आ गए, और दूर से आने वालों का सिलसिला पूरे दिन जारी रहा।
श्रीमाँ और जीवंतिमाँ रमेश के साथ कैंची आश्रम से टैक्सी लेकर चल दिए। भारत में आये हुए पश्चिमी भक्त भी आए, लेकिन वो जो अपने ही देशों में थे असहाय थे। तथापि, तीस अमरिकी भक्तों का एक समूह विमान द्वारा आने में सफल रहा। कई प्रसिद्ध व्यक्ति और उच्च अधिकारी भी महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित करने आए थे। उनकी कृपा से खबर हर किसी तक पहुंची थी। मुझे इलाहाबाद में ये दुखद समाचार मिला था, जिसे मैंने तब शहर में अन्य भक्तों को बताया। शीघ्र ही हम वृंदावन के लिए रवाना हुए। जहां भी समाचार प्राप्त हुआ और जिसे भी प्राप्त हुआ, सब हक्के बक्के रह गए थे और समझ नहीं पा रहे थे कि बाबा के साथ क्या हुआ था।

नीम करोली बाबा का अंतिम संस्कार 

वृंदावन आश्रम में भक्तगण बाबा के अंतिम संस्कार के विधि और तरीके का फैसला नहीं कर पा रहे थे। कुछ लोग जल में विसर्जन के पक्ष में थे, लेकिन कुछ दुसरे जमीन में दफन करके स्मारक बनाना चाहते थे (क्योंकि हिंदू प्रथा के अनुसार संत या संन्यासी का अंतिम संस्कार नहीं किया जाता है। उनको या तो बहते जल में विसर्जन करते हैं या जमीन में दफना देते हैं)। तभी वृंदावन के एक प्रसिद्ध संत, बाबा लीलानंद ठाकुर, जिन्हें पागल बाबा के नाम से भी जाना जाता था वहां पहुंचे। पागल बाबा ने अंत में निर्णय लिया कि महाराजजी का दाहसंस्कार होना चाहिए और यह आश्रम के अंदर उस स्थान पर होना चाहिए जहाँ प्रायः यज्ञ किया जाता है। उस वर्ष अप्रैल में नवरात्रि के लिए यज्ञ स्थल का निर्माण किया गया था। पूजा के बाद बची हुई यज्ञ सामग्री को जल में विसर्जित किया गया था, और उस जगह के चारों तरफ एक छोटी पत्थर की दीवार खड़ी कि गई थी। इसे ऐसे ही बनाए रखा गया था, जैसे कि इस उद्देश्य (महाराजजी का दाहसंस्कार) से ही तैयार किया गया हो।
दोपहर 2 बजे तक श्रीमाँ भी नहीं पहुचीं थी। लोग भूखे और प्यासे थे। उनमें से ज्यादातर दाह संस्कार में विलंब नहीं करना चाहते थे, जबकि अन्य लोगों का मानना था कि उन्हें श्रीमाँ का इंतजार करना चाहिए। जब बहुमत की राय पूरी तरह प्रभावित हुई तो बाबा का शरीर बाहर आश्रम के आंगन में लाया गया। तभी अचानक कहीं से एक भयानक तूफान उठा। इतनी तेज बारिश हुई कि लोगों को दस कदम दूरी से अधिक कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। बादलों से वातावरण में अन्धकार छा गया था, यहाँ तक कि गुजरती हुई गाड़ियों कि हेडलाइट्स भी मंद पड़ गई थी। परिणाम स्वरुप अर्थी को बरामदे में रखना पड़ा, और अंतिम संस्कार में देरी हुई। थोड़ी देर में श्रीमाँ पहुँच गई। जैसे ही श्रीमाँ ने गाडी से बाहर कदम रखे तूफ़ान शांत हो गया। उनके आने पर माहौल और ग़मगीन हो गया।
चंदन की लकड़ी की व्यवस्था की गई, और लोगों ने अपने प्यारे बाबा (गुरु) के अंतिम दर्शन किये। बाबा ऐसे लगते थे जैसे वो गहरी नींद में थे। उनका चेहरा पहले कि तरह ही चमक रहा था। शाम को करीब 6 बजे, बाबा के शरीर को फूलों से सजी हुई अर्थी पर रखा गया। उसके बाद उन्हें एक शव-वाहन में रखा गया और वृंदावन के चारों ओर एक जुलूस के रूप में ले जाया गया, भक्ति संगीत के साथ, जैसा कि संतों के लिए पारंपरिक तौर से किया जाता है।  भक्तों की एक बड़ी भीड़ बाबा के पीछे थी, और लोगों ने मंदिरों और घरों से उन पर फूल बरसाए। लोगों ने हर कदम पर गाड़ी को रोक कर आरती की। बाबा की अंतिम यात्रा में एक लंबा समय लगा। रात में करीब 9 बजे शव-वाहन वापस आश्रम में पहुंची और अलग होने के दुःख और जुदाई के बोझ वाले वातावरण में पूरी आस्था के साथ बाबा के भौतिक शरीर को अग्नि दी गयी। उस दुखद समय के सभी के अपने अलग-अलग अनुभव थे। जैसे कि, जगमोहन शर्मा ने देखा कि अग्नि में राम और लक्ष्मण के बीच में बाबा खड़े थे और हनुमान जी उनकी परिक्रमा (घड़ी की दिशा में घूमते हुए चलकर किसी पवित्र वास्तु के चक्कर लगाना) कर रहे थे।

Neem Karoli Baba Ki Asthiya

जब चिता कि अग्नि शांत हुई, भक्तों ने कई कलशों में अस्थियां एकत्रित की। कुछ कलशों को वाराणसी, हरिद्वार, प्रयाग, और पवित्र तीर्थों पर ले जाया गया, जहां उन्हें गंगा के पवित्र जल में विसर्जित कर दिया गया। कुछ दूसरे कलशों को बाबा के आश्रमों में भेजा गया, जहां उनके ऊपर बाद में बाबा कि मूर्ति को स्थापित किया गया। केहर सिंह जी को बाबा के अवशेषों को इकठ्ठा करते हुए देख कर, देवकामता दीक्षित जी को बाबा का कहा याद आया। उन्होंने अन्य भक्तों से कहा कि उन्होंने बाबा को यह कहते सुना था कि, "केहर सिंह ही मेरे फूल चुनेगा।" उस समय बाबा के शब्द बेतुके लगते थे, लेकिन उस दिन वो शब्द सच साबित हुए। महासमाधि के तेरहवें दिन, वृंदावन आश्रम में एक भव्य भण्डारा आयोजित किया गया। पहाड़ों के (उत्तराखंड) रीती रिवाजों के अनुसार कैंची आश्रम में एक दिन पहले ही भंडारा किया गया
भक्तगण जो पहले बाबा को श्रद्धांजलि अर्पित नहीं कर पाए थे, उनकी महासमाधि के पश्चात बारहवें और तेरहवें दिन उनका प्रसाद लेकर कृतार्थ हुए।

-From Ravi Prakash Pande (Rajida), ed., “The Divine Reality,” 2nd ed. (2005), pp. 276-287 Hindi translation by Tribhuvan Prakash

Comments

Popular posts from this blog

Vishnu Sahasranamam Stotram With Hindi Lyrics

Vishnu Sahasranamam Stotram Mahima ॐ  नमो भगवते वासुदेवाय नमः  प्रिय भक्तों विष्णु सहस्त्रनाम भगवान श्री हरि विष्णु अर्थात भगवान नारायण के 1000 नामों की वह श्रृंखला है जिसे जपने मात्र से मानव के समस्त दुख और कष्ट दूर हो जाते हैं और भगवान विष्णु की अगाध कृपा प्राप्त होती है।  विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करने में कोई ज्यादा नियम विधि नहीं है परंतु मन में श्रद्धा और विश्वास अटूट होना चाहिए। भगवान की पूजा करने का एक विधान है कि आपके पास पूजन की सामग्री हो या ना हो पर मन में अपने इष्ट के प्रति अगाध विश्वास और श्रद्धा अवश्य होनी चाहिए।  ठीक उसी प्रकार विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते समय आपके हृदय में भगवान श्री विष्णु अर्थात नारायण के प्रति पूर्ण प्रेम श्रद्धा विश्वास और समर्पण भाव का होना अति आवश्यक है। जिस प्रकार की मनो स्थिति में होकर आप विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करेंगे उसी मनो स्तिथि में भगवान विष्णु आपकी पूजा को स्वीकार करके आपके ऊपर अपनी कृपा प्रदान करेंगे।    भगवान विष्णु के सहस्त्र नामों का पाठ करने की महिमा अगाध है। श्रीहरि भगवान विष्णु के 1000 नामों (Vishnu 1000 Names)के स्मरण मात्र से मनु

हनुमान वडवानल स्रोत महिमा - श्री कैंची धाम | Hanuman Vadvanal Stotra Mahima - Shri Kainchi Dham

हनुमान वडवानल स्रोत महिमा - श्री कैंची धाम | Hanuman Vadvanal Stotra Mahima - Shri Kainchi Dham   श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र की रचना त्रेतायुग में लंका अधिपति रावण के छोटे भाई विभीषण जी ने की थी। त्रेतायुग से आज तक ये मंत्र अपनी सिद्धता का प्रमाण पग-पग पे देता आ रहा है।  श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र के जाप से बड़ी से बड़ी समस्या भी टल जाती है। श्री हनुमान वडवानल स्रोत का प्रयोग अत्यधिक बड़ी समस्या होने पर ही किया जाता है। इसके जाप से बड़ी से बड़ी समस्या भी टल जाती है और सब संकट नष्ट होकर सुख-समृद्धि प्राप्त होती है।  श्री हनुमान वडवानल स्तोत्र के प्रयोग से शत्रुओं द्वारा किए गए पीड़ा कारक कृत्य अभिचार, तंत्र-मंत्र, बंधन, मारण प्रयोग आदि शांत होते हैं और समस्त प्रकार की बाधाएं समाप्त होती हैं। पाठ करने की विधि शनिवार के दिन शुभ मुहूर्त में इस प्रयोग को आरंभ करें। सुबह स्नान-ध्यान आदि से निवृत्त होकर हनुमानजी की पूजा करें, उन्हें फूल-माला, प्रसाद, जनेऊ आदि अर्पित करें। इसके बाद सरसों के तेल का दीपक जलाकर लगातार 41 दिनों तक 108 बार पाठ करें।

Bajrang Baan Chaupai With Hindi Lyrics

बजरंग बाण की शक्ति: इसके अर्थ और लाभ के लिए एक मार्गदर्शिका क्या आप बजरंग बाण और उसके महत्व के बारे में जानने को उत्सुक हैं? यह व्यापक मार्गदर्शिका आपको इस शक्तिशाली प्रार्थना के पीछे के गहन अर्थ की गहरी समझ प्रदान करेगी। बजरंग बाण का पाठ करने के अविश्वसनीय लाभों की खोज करें और अपने भीतर छिपी शक्ति को उजागर करें। बजरंग बाण को समझना: भगवान हनुमान को समर्पित एक शक्तिशाली हिंदू प्रार्थना, बजरंग बाण की उत्पत्ति और महत्व के बारे में जानें। बजरंग बाण हिंदू धर्म में पूजनीय देवता भगवान हनुमान को समर्पित एक पवित्र प्रार्थना है। यह प्रार्थना अत्यधिक महत्व रखती है और माना जाता है कि इसमें उन लोगों की रक्षा करने और आशीर्वाद देने की शक्ति है जो इसे भक्तिपूर्वक पढ़ते हैं। इस गाइड में, हम बजरंग बाण की उत्पत्ति के बारे में गहराई से जानेंगे और इसके गहरे आध्यात्मिक अर्थ का पता लगाएंगे। इस प्रार्थना के सार को समझकर, आप इसके अविश्वसनीय लाभों का लाभ उठा सकते हैं और इसमें मौजूद परिवर्तनकारी शक्ति का अनुभव कर सकते हैं। बजरंग बाण का पाठ: अधिकतम प्रभावशीलता और आध्यात्मिक लाभ के लिए बजरंग बाण का ज